आपको क्या परेशानी है?

आपको क्या परेशानी है?

  • April 1, 2019

सुश्री निधि झा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से सामाजिक कार्य में मास्टर की डिग्री प्राप्त की है। उन्हें विकास के मुद्दों में बच्चों के साथ काम करने का १२ साल से अधिक अनुभव है। उन्हें भारत और विदेश में किशोर बच्चों…

Read more
The Sticky Lesson

The sticky lesson

Gaurav was a very naughty boy. One day while trying to play a prank, he learns a sticky lesson. Gaurav was the naughtiest boy in his class. He enjoyed teasing his classmates and playing pranks on them. Every day the…

Read more
The Boxville Chronicles – Teaching By Example

The Boxville chronicles – Teaching by example

  • April 1, 2019

Mrs. Folder, the wise teacher in Boxville gives the little cartons exercises to teach them about caring, sharing and getting along together. Monday morning was upon Boxville and the little cartons literally dragged themselves to school. Little did they know…

Read more

Forgiveness

Rahul was very excited to go to school since it was his birthday that day. He suddenly felt grown up and very important. So he dressed up for school, looked at his smart reflection in the mirror, and admired his…

Read more
Rising Above

Rising above

  • April 1, 2019

It was 11:00 am. Rameez was just about to leave for his short recess when he heard a voice summon him, “Hey Rameez, fatso! Come here. Why are you in such a hurry to eat?” Rameez looked at the boy…

Read more
पर हित सरिस धरम नहीं कोय

पर हित सरिस धरम नहीं कोय

  • April 1, 2019

आज छुट्टी का दिन है। मालिनी सुभद्रा से नजरें चुराते इधर उधर छिपती फिर रही है। सुभद्रा आज जरूर उसे पकड़ कर पूछताछ करेगी।  इसलिए अपनी किताबें लेकर वह चुपचाप पढ़ने बैठ गई। लेकिन जिसका डर था, वही हुआ। सुभद्रा…

Read more
संगत

संगत

  • April 1, 2019

चिराग पढ़ाई में लापरवाही दिखा रहा था। उसके दादाजी को समझ में आ गया कि यह उसकी संगत का असर है। गाज़ियाबाद के एक रिहायशी इलाके राजनगर में तीन घनिष्ठ मित्र रहते थे। आस-पास के लोग उन्हें शर्मा जी, वर्मा…

Read more
चीज नहीं भाव बड़ा होता है

चीज नहीं भाव बड़ा होता है

कल टीचर्स डे है। अनन्त अपने घर में है। बहुत सोच रहा है कि कल टीचर के लिए क्या लेकर जाऊँ। घर में किसी चीज की कोई कमी नहीं है और उसके मम्मी-पापा जो भी वो चाहे वो दिला सकते…

Read more
अदृश्य पत्थर

अदृश्य पत्थर

  • April 1, 2019

ईशिका के पापा उसके विद्यालय के कार्यक्रम में नहीं आए। तब ईशिका ने अपने दोस्तों को एक कहानी सुनाई।  स्वतन्त्रता दिवस की पूर्व संध्या पर ईशिका के विद्यालय में बहुत बड़े कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। सभी छात्र अपने माता-पिता के साथ स्कूल आए…

Read more
Getting To Know Her

Getting to know her

  • April 1, 2019

Do I even know you? There was no answer. She simply stared back at me, mute - a spectator to my abyss. One who could go on, unaffected by all that had happened. I stared at my reflection, willing it…

Read more
Loading...