The Botanist Birbal – Part 1

The botanist Birbal – part 1

  • February 1, 2019

The wise chief minister of Akbar’s court, Birbal teaches us about botany. In this part, Birbal teaches us how to decipher the roots of a plant without digging it up. One day Emperor Akbar’s court was in progress. The king…

Read more
मानवीय स्पर्श – भाग ३

मानवीय स्पर्श – भाग ३

  • February 1, 2019

एक पेड़ से सुनिए कि कैसे मानवीय स्पर्श ने उसे गिरने से बचाए रखा। मानवीय स्पर्श की कोमलता की सराहना मुझ से अधिक और कौन कर सकता है। क्योंकि मुझे दो साल पहले मानवीय स्पर्श ने ही एक बार फिर…

Read more
Wonderful World

Wonderful world

  • February 1, 2019

Sid was a little seed. He lived in a small, dark bunker in the soil. It was cold and closed from all sides. Sid liked being there all the time, day and night. One day he heard that someone was…

Read more
Aahana’s Corner In Heaven – Part 2

Aahana’s corner in heaven – part 2

  • February 1, 2019

Aahana and her family travel to the north east of India and discover heaven on Earth. Join the family on their journey through the unexplored country. After a sumptuous breakfast of eggs, muffins, juice and muesli, the family walked down…

Read more
पशु और हम

पशु और हम

  • February 1, 2019

पशु और हम एक साथ रह सकते हैं। रेंजर श्री रणवीर सिंह राव बच्चों को बताते हैं कि यह कैसे किया जा सकता है। वन विभाग के रेंजर रेंक के एक अफसर थे, श्री रणवीर सिंह राव। वह बड़े ही…

Read more
Coping With The Sizzling Summers

Coping with the sizzling summers

  • February 1, 2019

During the summers, when the temperature is at the highest, Seema and her family look for an escape. The last one week had seen a sharp rise in temperatures. Most days, it was impossible to step out of the house…

Read more
गोल-मटोल चंदा

गोल-मटोल चंदा

  • February 1, 2019

चंदा रूठा-रूठा सा आज, क्योंकि रहना है उसको गोल-मटोल, वह कहता यह बार-बार सूरज नहीं बदलता जब, तारें भी न छोड़े अपना आकार, फिर मैं क्यों नहीं रहता एक समान? बहुत हो चुका यह छोटे-बड़े, और ग़ायब होने का खेल,…

Read more
वनस्पतिज्ञ बीरबल – भाग १

वनस्पतिज्ञ बीरबल – भाग १

  • February 1, 2019

एक दिन शहंशाह अकबर का दरबार चल रहा था। शहंशाह अपने दरबारियों के साथ राज्य के मुद्दों पर चर्चा कर रहे थे। अधिकतर वह अपने ख़ास मंत्री, बीरबल के सुझावों पर अमल करते थे, जो हमेशा विभिन्न समस्याओं के उचित…

Read more
The Human Touch – III

The human touch – III

  • February 1, 2019

Ever wondered how a tree feels? The human touch is an environmental article written from the perspective of a jamun tree. Who could appreciate the tenderness of human touch better than me as I was proud of having grown once…

Read more
गौरैया, प्यारी चिड़िया

गौरैया, प्यारी चिड़िया

  • February 1, 2019

गौरैया को बचाना हम सभी के हाथ में है। देखिये इन बच्चों ने कैसे एक छोटी सी शुरुआत करी। उषा किरन रोज़ की तरह बस में बैठी यात्रा कर रही थीं, अपने स्कूल पहुँचने के लिये। वे वहाँ ड्रॉइंग एवं…

Read more
Loading...