मुहर्रम की कहानी

मुहर्रम की कहानी

  • October 1, 2017

वीरेन अपनी घर की बॉलकनी में खड़ा था। तभी उसके कानों में लोगों की चीख़ने की आवाज़ आयी। सभी अपने सीने पर हाथ से मारकर कह रहे थे ‘या हुसैन हम न हुये’। वीरेन डर जाता है। नीचे आकर वह…

Read more
Loading...