लद्दाख सुहावना और हेमिस त्यौहार

लद्दाख सुहावना और हेमिस त्यौहार

  • January 1, 2019

राघव जैसे ही लेह के हवाई अड्डे पर उतरा, वहाँ पहाड़ों की चोटी पर जमी हुई बर्फ़ देखते ही उसे ऐसा लग रहा था कि मानो किसी पेंटिंग को देख रहा है। फिर वह जब शहर की तरफ बढ़ा तो…

Read more
रावण

रावण

  • July 1, 2018

बच्चों में आपस में बहस छिड़ गयी की रावण के दस सिर थे या नहीं। अग्रवाल अंकल ने यह गुत्थी सुलझाई।  दशहरे की छुट्टियाँ थीं। मौसम भी खुशनुमा हो चला था। सोसाइटी के बच्चे बैट बॉल लेकर मैदान में निकल आये…

Read more
त्योहार – जीवन ही ज्योति है

त्योहार – जीवन ही ज्योति है

  • March 1, 2018

भारत में त्योहार क्यूँ मनाए जाते हैं? पढ़िये अलग अलग पीढ़ियों के विचार।  भारत त्यौहार से भरा देश है। मुख्य कारण, धार्मिक विविधताएं, विभिन्न मौसम के बदलाव आदि हैं। हर बदलाव एवं विभिन्नता को धार्मिक कथाओं से जोड़ कर, आदि…

Read more
नया साल आ ही गया

नया साल आ ही गया

  • February 1, 2018

जगमगाता नया साल फिर से आ ही गया, अपने साथ अच्छे संदेश लेकर भी आया, पिछले साल की मीठी यादों साथ में लाया, और कुछ नया करने का भी है इसने ठाना, तभी नये साल का बेसब्री से इंतज़ार है…

Read more
गोनू की दीवाली स्वच्छता के साथ

गोनू की दीवाली स्वच्छता के साथ

  • October 1, 2017

गोनू दीवाली की तैयारी बहुत ज़ोरों-शोरों से कर रहा था। अभी दीवाली को आने में पूरे दस दिन बाक़ी थे पर वह पटाखे ख़रीदने में लगा हुआ था। उसने एक छोटी सी बंदूक़ भी ख़रीदी जिसमें वह पटाखे का रोल…

Read more
राष्ट्रपिता प्यारे बापू

राष्ट्रपिता प्यारे बापू

  • October 1, 2017

बापू मेरे प्यारे बापू, बहुत याद आते हो बापू। सादा जीवन उच्च विचार को आपने अपनाया, जातिवाद रंगभेद के ख़िलाफ़ रहे हमेशा, बैरिस्टर बनकर भी समाज सुधारा, सत्य अहिंसा का पाठ जो है पढ़ाया आपने, तभी बने आप सभी के…

Read more
मुहर्रम की कहानी

मुहर्रम की कहानी

  • October 1, 2017

वीरेन अपनी घर की बॉलकनी में खड़ा था। तभी उसके कानों में लोगों की चीख़ने की आवाज़ आयी। सभी अपने सीने पर हाथ से मारकर कह रहे थे ‘या हुसैन हम न हुये’। वीरेन डर जाता है। नीचे आकर वह…

Read more
त्यौहार ही त्यौहार

त्यौहार ही त्यौहार

  • August 1, 2017

आदित्य अपने से चार साल छोटी बहन श्वेता को हिंदी में निबन्ध याद करा रहा था। विषय था ‘भारत के त्यौहार’। श्वेता को पढ़ाकर फिर उसे अपना भी थोड़ा सा होमवर्क पूरा करना था। श्वेता बोली, “भैया, हमारे देश में…

Read more
तिरंगा

तिरंगा

  • August 1, 2017

मेरा तिरंगा कितना प्यारा, तीन रंगो से यह भरा हुआ, सबसे ऊपर रंग केसरिया, साहस, शक्ति को यह समझाता, इसके बाद श्वेत रंग है आता, जो सत्य, शांति का मार्ग दिखाता, नीचे वाला रंग है हरा हरा, यह भूमि की…

Read more
रक्षाबंधन

रक्षाबंधन

  • August 1, 2017

बहुत देर से मैं यहाँ बैठी, देखो कितनी सुंदर राखी लायी, बढ़ी जंचेगी तुम्हारी कलाई, और मीठा भी पसंद का ले आयी, पर एक बात ध्यान से सुन ले भाई, पहले चाहिये खूब पैसे मुझको, तभी यह राखी बाँधूँगी तुमको,…

Read more
Loading...