Renu Deepak

बचपन में कॉमिक्स पढ़ते पढ़ते कहानियां लिखने का शौक हो गया। आज लगता है बच्चों को नैतिक शिक्षा की बहुत आवश्यकता है जो उन्हें भविष्य में एक अच्छा इंसान बनने में सहायक हो। जब गीता जी से मेरी मुलाकात हुई और उन्होंने नीव के बारे में बताया तो लगा जिसका नाम ही सार्थक है वो मैगज़ीन जरूर अच्छी होगी और इस तरह नीव से जुड़ना अच्छा अनुभव् रहा। कहानी लिखने के अलावा मै कविता भी लिखती हूँ और पेटिंग बनाना और क्राफ्ट करना मेरी बचपन से पसदीदा काम हैं | बच्चे जो भी काम करे , लगन के साथ करें। काम अपनी पसंद का हो मगर अपने बड़ों की राय भी जरूरी है।

Content that I have contributed to

Loading...