Hardik Prajapati

मैंने हमेशा से ही चाहा था कि बच्चों में भारतीय संस्कार सुदृढ़ हो। नींव के द्वारा यह कार्य सम्पादित होते देख, मुझे हार्दिक ख़ुशी है। भारत की नींव भारत के बच्चे ही हैं और जब बच्चों में अच्छे संस्कार होंगे तो सुनहरे भारत का सपना दूर नहीं होगा। इस कार्य में मैं मेरी तरफ से यथा सम्भव प्रयत्न करता रहूँगा।

Content that I have contributed to

Loading...