दोहा

माँ-बाप की मूरत है गुरू,

कलयुग में भगवान की

सूरत है गुरू।

Ojas Pungalia, Hindi poem, 11 to 13 years
Rate this post

Leave a Reply

Loading...