मानवीय स्पर्श – २

मानवीय स्पर्श – २

जब मैं गिर रहा था तब के मेरे इन्सान के बर्ताव के बारें में जो भी अनुभव थे, वे धीरे…

Read More →
जादुई जूते – मिशन २

जादुई जूते – मिशन २

आए दिन आतंकवादियों के द्वारा निर्दोष लोगों की हत्या से सारा भारतवर्ष परेशान था। खोज बीन से यही जानकारी उभर…

Read More →
हे भगवान

हे भगवान

माता पिता ने जाने क्या सोचकर रखा था नाम 'अटल', पर अटल ने तो वास्तव में अपना नाम सच कर…

Read More →
झूठ बोले कौवा काटे

झूठ बोले कौवा काटे

प्रांजल की झूठ बोलने की आदत को सब जानते थे। उसके दोस्त भी और मम्मी पापा भी। सब उसे समझाते…

Read More →
बैंगन और मिर्ची की लड़ाई

बैंगन और मिर्ची की लड़ाई

सब्ज़ियों की सभा में, बैंगन मिर्ची की हुई लड़ाई , बैंगन बोला, “कभी तुमने अपना वज़न है तोला? मै भारी…

Read More →
परेशानी का अंत

परेशानी का अंत

फ़रवरी का महीना था, चारों तरफ पीले-पीले फूल और वातावरण में ख़ुशनुमा माहौल था। ऐसा लग रहा था कि धरती…

Read More →
चंदा मामा

चंदा मामा

चंदा मामा आ जाना, चाँदनी रात दिखा जाना, हमको नींद दिला जाना, मीठे सपनें दिखा जाना। दुनिया की सैर करा…

Read More →
चमत्कारी जिन्न

चमत्कारी जिन्न

अजीत का परिवार बहुत ही ग़रीब था। अजीत की उम्र नौ साल की होने पर भी वह अभी तक स्कूल…

Read More →
जादुई बोतल

जादुई बोतल

समुद्र के किनारे कुछ बच्चे खेल रहे थे। सुनहरी बालू धूप में चमक रही थी। बच्चे इधर–उधर बालू के घरोंदे…

Read More →
मयूरा की अलौकिक शक्ति

मयूरा की अलौकिक शक्ति

मयूरा के मम्मी-पापा दोनों अपने काम में व्यस्त रहते थे, इसलिये उसे सब काम अपने आप करना पड़ता था। वह…

Read More →
दाँतों की दुनिया (भाग – 1)

दाँतों की दुनिया (भाग – 1)

बेटे चुनमुन, चलो सोने से पहले दाँतों को अच्छी तरह से साफ कर-के कुल्ला कर लो, माँ ने कहा। "माँ,…

Read More →
सिंघाड़ा

सिंघाड़ा

छः साल का अन्नी सो रहा था। माँ को किसी काम से बाहर जाना था। माँ ने अन्नी के बोर्ड…

Read More →
स्वर्ग नर्क

स्वर्ग नर्क

आज नर्क के अन्दर एक बवाल-सा मचा हुआ था। चारों ओर धरना प्रदर्शन, नारेबाजी, शोर और अराजकता का बोलबाला था।…

Read More →
गुच्छे की कीमत

गुच्छे की कीमत

“ये अंगूर कितने के हैं?” एक अंकलजी पूछ रहे थे। “सौ रुपये का एक गुच्छा है, साहब!” दुकानदार ने जवाब…

Read More →
गणतंत्र दिवस और वीरता पुरस्कार

गणतंत्र दिवस और वीरता पुरस्कार

आज हम आपको वीरता और साहस के लिये मिलने वाले पुरस्कार के बारे में बताते है। यह पुरस्कार ६ से…

Read More →
अहंकार भी सिखाता है

अहंकार भी सिखाता है

(कहानी के सन्दर्भ में - अहंकार स्वयं पैदा नहीं होता। अनजाने में,  साधारण सी जिंदगी में, अहंकार का जन्म अनुचित…

Read More →
अच्छा व्यवहार

अच्छा व्यवहार

आनंद ने सीखा की अच्छा व्यवहार क्यूँ ज़रूरी है। आनंद एक बहुत ही शरारती बच्चा था। वह कभी भी किसी…

Read More →
दिव्य

दिव्य

स्कूल के बाद जब बच्चे कॉलेज में जाते हैं तो ये किसी चमत्कार से कम नहीं लगता। जैसे बहुत बड़े…

Read More →
मनमानी

मनमानी

आदित्य बिस्तर पर उल्टा लेटा हुआ सुबक-सुबक कर रो रहा था। तभी दादा जी शाम की सैर करने अपने कमरे…

Read More →
पिताजी का विश्वास

पिताजी का विश्वास

रघु पाँचवी कक्षा का छात्र था। वह पढ़ने में तो अच्छा था ही साथ ही साथ खेल कूद में भी…

Read More →
सराहनीय आलोचक

सराहनीय आलोचक

स्वरा और शुभ, जुड़वा भाई-बहन, लगभग बारह वर्ष के हो गए थे। सभी सहेलियाँ, शालिनी को बहुत बधाई देने आई…

Read More →
छुपी सच्चाई

छुपी सच्चाई

अंजलि की इकलौती बेटी सोनल थी। माँ-बेटी होने के साथ-साथ अच्छी सहेलियाँ भी थी। सोनल अब विवाह योग्य हो गई…

Read More →
परफ़ेक्ट लुक

परफ़ेक्ट लुक

सोनल अपनी पसंदीदा अभिनेत्री पी.जे. जैसी परफ़ेक्ट लुक चाहती थी। उसे यह नहीं पता था कि वास्तविकता क्या थी।  “मम्मी, मुझे…

Read More →
परिवर्तन

परिवर्तन

मीना जबसे अपने विद्यालय में कप्तान बनी थी तबसे उसे लगता था कि उसकी सहेलियाँ उससे कुछ ठीक से बात-…

Read More →
विक्की बदल गया

विक्की बदल गया

“मम्मी, मेरा बेल्ट नहीं मिल रहा है”, विक्की ने ज़ोर से आवाज़ लगायी। वह स्कूल जाने के लिए तैयार हो…

Read More →
अजगर का वध

अजगर का वध

‘अजगर’ शब्द सुनते ही किसी के भी दिमाग में डर और साथ ही हास्य के भावों की उत्पत्ति होती है।…

Read More →
अनोखा टीला – लोगों की मदद करना

अनोखा टीला – लोगों की मदद करना

दारा के भारी-भरकम होने से लोगों की मदद हो जाती है। दारा बहुत ही भारी-भरकम और लम्बा था, वह जब…

Read More →
अजेय शक्ति

अजेय शक्ति

एक बरगद का बहुत पुराना पेड़ था। उसकी शाखाओं पर अनेक पक्षियों ने अपने घोंसले बना रखे थे। बरगद के…

Read More →
परोपकार

परोपकार

एक आम के पेड़ पर दो घोंसले थे। एक तोते का और दूसरा चिड़िया का। दोनो में ही उनके छोटे-छोटे…

Read More →
दोस्त

दोस्त

छोटू खरगोश जंगल में रहता था। उसके कई दोस्त थे। उसे अपने दोस्तों पर बड़ा गर्व था। एक दिन छोटू…

Read More →
हमारे साथी – 1

हमारे साथी – 1

अंग्रेज़ी में पढे

Read More →
होशियारी का नतीजा

होशियारी का नतीजा

बहुत पुरानी बात है। चंदनपुर के महाराजा दीनानाथ को जानवरों से बहुत लगाव था। उनके महल के अन्दर एक प्राणी…

Read More →
बंदर

बंदर

चले बंदर-बंदरिया नाच दिखाने, झट से बंदर बना दूल्हा, सिर पर बाँधा उसने सेहरा, बंदरिया को बनना पड़ा दुल्हनिया। घुँघरू…

Read More →
जन्म दिन का उपहार

जन्म दिन का उपहार

“माँ आज मैं स्कूल नहीं जाऊंगा”, निरूपम ने कहा। “क्यों नहीं जाओगे?” सविता ने लंच बौक्स बैग में डालते हुए…

Read More →
अनमोल जीवन

अनमोल जीवन

एक गाँव था जहाँ अनमोल नामक एक बच्चा रहता था। वह बच्चा अपने माता-पिता के प्रेम से वंचित रह गया…

Read More →
पक्षियों का प्रवास

पक्षियों का प्रवास

पक्षियों के बिना आसमान अधूरा है। आकाश में रचना में उड़ते हुए पक्षियों का झुंड एक बहुत ही प्रेरणादायक दृश्य…

Read More →
कोल्हू का बैल

कोल्हू का बैल

अमित अपनी छुट्टियों में गाँव जाने के लिये बहुत उत्साहित और दादाजी से मिलने के लिये बैचेन रहता है। वह अपने मम्मी…

Read More →
मच्छर पहलवान

मच्छर पहलवान

अगस्त महीने का अंतिम सप्ताह चल रहा था। बरसात करीब-करीब खत्म सी हो गयी थी। रात्रि का समय था। कक्षा…

Read More →
अजीब दुनिया – ग्लो वर्म्स, पूरी चमक, वर्म्स बिलकुल नहीं

अजीब दुनिया – ग्लो वर्म्स, पूरी चमक, वर्म्स बिलकुल नहीं

ग्लो वर्म्स! यह नाम सुनते ही आँखों के सामने बहुत ही सुंदर चमक वाले, रेंगने वाले कीड़े नजर आते हैं।…

Read More →
लालची चूहा

लालची चूहा

एक लालची चूहे ने मक्का से भरी टोकरी को देखा। वह उस मक्के को खाना चाहता था। इसलिए उसने उस…

Read More →
शिक्षा – एक मूलभूत अधिकार

शिक्षा – एक मूलभूत अधिकार

शिक्षा का मानव मन, शरीर और आत्मा पर एक शक्तिशाली प्रभाव पड़ता है। यही एक कारण है जो हमें जानवरों,…

Read More →
सफलता का शिखर

सफलता का शिखर

दिव्या को आज पी.एच.डी की उपाधि मिलने वाली है। मंच पर बैठी उसे दासगुप्ता मैम का निस्वार्थ मार्गदर्शन याद आ रहा था।  विश्वविद्यालय…

Read More →
अध्यापक दिवस

अध्यापक दिवस

प्रतिवर्ष पाँच सितंबर को अध्यापक दिवस मनाया जाता है। यह दिवस १९६२ से मनाया जाना प्रारम्भ हुआ क्योंकि यह दिन…

Read More →
पर हित सरिस धरम नहीं कोय

पर हित सरिस धरम नहीं कोय

आज छुट्टी का दिन है। मालिनी सुभद्रा से नजरें चुराते इधर उधर छिपती फिर रही है। सुभद्रा आज जरूर उसे…

Read More →
स्कूल

स्कूल

स्कूल है मुझको खूब ही भाता मेरे दोस्तों से मिलवाता बैग, किताबें, रंग और पेन्सिल टिफिन का खाना खाते हिलमिल…

Read More →
संगत

संगत

चिराग पढ़ाई में लापरवाही दिखा रहा था। उसके दादाजी को समझ में आ गया कि यह उसकी संगत का असर…

Read More →
अदृश्य पत्थर

अदृश्य पत्थर

ईशिका के पापा उसके विद्यालय के कार्यक्रम में नहीं आए। तब ईशिका ने अपने दोस्तों को एक कहानी सुनाई।  स्वतन्त्रता दिवस की पूर्व संध्या पर…

Read More →
चिराग

चिराग

मेरी कक्षा में एक लड़का था - चिराग। उसने अपनी लगन से मुझे आश्चर्यचकित कर दिया!  पढ़ाते–पढ़ाते इतने साल हो…

Read More →
बापू का बैग

बापू का बैग

सर ने सुधीर को आज फिर डांटा कि यदि वह कल से बैग में किताबें रख कर नहीं लाया तो…

Read More →
संतुलित आहार

संतुलित आहार

गोलू खाना खाने का बहुत शौक़ीन था। लेकिन वह फल, दाल, रोटी और सब्ज़ियों को कभी पसंद नही करता था।…

Read More →
नयी दिशाएँ

नयी दिशाएँ

रिक्की और उसके दोस्तों ने अपनी छुट्टियों में नए व्यवसायों के बारे में जाना।  रिक्की जब गरमियों की छुट्टी के…

Read More →
नैतिक मूल्य

नैतिक मूल्य

अंजन ने प्रधानमंत्री को नैतिक मूल्य का महत्व समझाया।  अंजन पैदल चलता हुआ अपने घर पहुँचा, ताला खोला और अन्दर आया।…

Read More →
सच करने हैं सपने

सच करने हैं सपने

अंजलि अपने घर में सबकी प्यारी थी। होती भी क्यों न। एक तो अपने चाचा-ताऊ के घरों को भी मिलाकर…

Read More →
प्रणाम

प्रणाम

एक विद्यालय था। पूरे शहर में इस विद्यालय का बहुत नाम था। सभी माता-पिता अपने बच्चों को इस विद्यालय में…

Read More →
ड्रैगन का सामना

ड्रैगन का सामना

छोटे-छोटे मोतियों की तरह पसीना उसके चेहरे से नीचे की तरफ फिसलने लगा। उसने ध्यानपूर्वक देखा। सामने खड़ा ड्रैगन बहुत…

Read More →
खाना तो खाना होता है

खाना तो खाना होता है

छोटा-सा बच्चा स्कूल में पढ़ने जाता था। उसका नाम अमर था। अमर बहुत मासूम था। अभी पहली कक्षा में पढ़ता…

Read More →
काँच के टुकड़े

काँच के टुकड़े

अनंत ने काँच के टुकड़े देखकर एक गुत्थी सुलझाई। उसकी चतुराई ने एक खतरनाक गिरोह को पकड़वाया।  “छनाक!” ये आवाज़…

Read More →
चिरौ – मिज़ोरम का बैम्बू नृत्य

चिरौ – मिज़ोरम का बैम्बू नृत्य

जब मैं पहली या दूसरी कक्षा में थी, मैंने स्कूल में अपनी वरिष्ठ छात्राओं को बाँस की डंडियों से एक…

Read More →
ऐतिहासिक बीकानेर की झलक – १

ऐतिहासिक बीकानेर की झलक – १

मेरे पति को किसी ज़रूरी काम से बीकानेर लगभग पंद्रह दिन के लिये जाना था। स्कूल की छुट्टियाँ न होने…

Read More →
हम्पी की यात्रा

हम्पी की यात्रा

यह वर्ष २००९ की बात है। मैं अपने अनोखे देश के इतिहास के बारे में जानने के लिए उत्सुक था।…

Read More →
ऐतिहासिक बीकानेर की झलक – २

ऐतिहासिक बीकानेर की झलक – २

पिछले अंक में आप सभी ने जयपुर से बीकानेर तक की यात्रा का आनन्द लिया, उसके बाद लक्ष्मीनाथ मंदिर के…

Read More →
गर्मी की छुट्टियाँ

गर्मी की छुट्टियाँ

गमीं की छुट्टियाँ आ गईं थी। गुनगुन कहीं घूमना चाहती थी, मगर अभी तक कोई प्रोग्राम बना नहीं था। गुनगुन…

Read More →
ऐतिहासिक बीकानेर की झलक – ३

ऐतिहासिक बीकानेर की झलक – ३

हमने अब तक बीकानेर में लक्ष्मीनाथ, करनी माता मंदिर एवं जूनागढ़ क़िला और संग्रहालय देखा। इसके बाद गजनेर पैलेस की…

Read More →
पहली उड़ान

पहली उड़ान

हिरण्मई और भानुप्रिया अपनी ज़िंदगी की पहली उड़ान पर थीं! उन्होने हवाई जहाज के बारे में सीखा।  हिरण्मई और भानुप्रिया…

Read More →
ट्रेन की यात्रा

ट्रेन की यात्रा

मोनु ने ट्रेन की सुरक्षा के बारे में सीखा।  श्रेया आज बहुत खुश थी। वह कई सालों बाद ट्रेन का…

Read More →
योवा-तपु और ज़ीरो फ़ेस्टीवल

योवा-तपु और ज़ीरो फ़ेस्टीवल

भारत में हर साल ज़ीरो फ़ेस्टीवल में संगीत की कई रचनाएँ देखने को मिलती हैं। इस साल योवा-तपु को भाग लेने…

Read More →
रामोजी (फिल्म सिटी)

रामोजी (फिल्म सिटी)

क्या आपने रामोजी फिल्म सिटि देखी है? अगर नहीं, तो आइये चलते हैं उसकी सैर पर।  हैदराबाद शहर से लगभग…

Read More →
मीनाक्षी मंदिर

मीनाक्षी मंदिर

मीनाक्षी को बहुत खुशी हुई कि उसके नाम का एक प्रसिद्ध मंदिर - मीनाक्षी मंदिर - भी है।  मेरा नाम…

Read More →
लद्दाख सुहावना और हेमिस त्यौहार

लद्दाख सुहावना और हेमिस त्यौहार

राघव जैसे ही लेह के हवाई अड्डे पर उतरा, वहाँ पहाड़ों की चोटी पर जमी हुई बर्फ़ देखते ही उसे…

Read More →
अदिति की गिर उद्यान यात्रा

अदिति की गिर उद्यान यात्रा

अदिति अपने मम्मी-पापा के साथ गिर उद्यान देखने गयी। यह उद्यान गुजरात में स्थित एवं शेरों के लिये प्रसिद्ध है।…

Read More →
भूल भुलैया मिठाई

भूल भुलैया मिठाई

कनिका ने लखनऊ में भूल-भुलैया देखी।  कनिका को घूमना, नई-नई जगह देखना बहुत अच्छा लगता था। एक बार वो विद्यालय…

Read More →
मातृभाषा का महत्व

मातृभाषा का महत्व

भावेश को अपनी मातृभाषा का महत्व देर से समझ आया, पर आ गया। भावेश गुजरात का रहने वाला था। दो…

Read More →
बोहाग बिहु की बहार

बोहाग बिहु की बहार

इस साल मेरे स्कूल के बच्चों को असम ले जाया गया। अप्रैल में आने की वजह से बिहू त्योहार देखने…

Read More →
पशुपति नाथ

पशुपति नाथ

आज कक्षा के छात्र उत्सुकता से पशुपति नाथ मंदिर के बारे में जानना चाहते थे।  आज कक्षा से बाहर झांक–झांक कर…

Read More →
हिमालय पर्वत : भारत के रक्षक

हिमालय पर्वत : भारत के रक्षक

बचपन से हम सब भारत देश का नक्शा देखते आये हैं। जम्मू कश्मीर से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक जो सफ़ेद…

Read More →
आदिवासी

आदिवासी

मेरे जन्म से लेकर अब तक, ६० वर्षों से भी अधिक समय दिल्ली में रहते हुए, आदिवासियों की केवल एक…

Read More →
मन उड़ चला विदेश पेरिस – १

मन उड़ चला विदेश पेरिस – १

मैं और मेरा परिवार विदेश पेरिस जाते हैं। वहाँ हमने बहुत कुछ देखा और सीखा।  पापा अक्सर अन्तरराष्ट्रीय सेमिनार में…

Read More →
अजीब दुनिया: अजीबोगरीब बीमारियाँ

अजीब दुनिया: अजीबोगरीब बीमारियाँ

एलिस इन वंडरलैंड, ऑथेलो, एलियन हैड, एक्सप्लोडिंग हैड, वॉकिंग कोर्प्स, पैरिस, जेरुसालेम, ट्री मैन, स्टोन मैन... दोस्तों, ऊपर दिए नाम…

Read More →
गुरुदक्षिणा

गुरुदक्षिणा

रमन को गुरुदक्षिणा पर एकाँकी लिखनी थी। उसने सोचा की एकलव्य की कहानी को छोड़कर, किसी दूसरी कहानी पर लिखा…

Read More →
सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली मदनमोहिनी की

सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली मदनमोहिनी की

सिंहासन बत्तीसी के अगले भाग में राजा विक्रमादित्य के त्याग और परोपकार के बारे में जानिए। उन्नीसवें दिन स्वयं को…

Read More →
वास्तविक परी

वास्तविक परी

मधुरिमा के सरल समाधानों ने उसे एक वास्तविक परी का रूप दिया। मधुरिमा १३ वर्ष की आठवीं कक्षा से उत्तीर्ण…

Read More →
बुजुर्गों का सुख सदन

बुजुर्गों का सुख सदन

हमें अपने बुजुर्गों का सुख बनाए रखने के लिए उन्हें आदर और समय देना चाहिए। सुख और खुशी के दिन…

Read More →
कर्मों का चमत्कार

कर्मों का चमत्कार

विवेक ने सीखा कि कर्मों का चमत्कार तभी होता है जब हमारे कर्म अच्छे हो।  रात के १० बज चुके…

Read More →
चाँद तारों की परी

चाँद तारों की परी

गुंजन एक परी बनना चाहती थी, जो चंद-तारों की सैर कर सके। राहुल कुमार जी का पूरा परिवार दिल्ली के…

Read More →
दुनिया बदल रही है

दुनिया बदल रही है

देखिये आस पास, आपकी दुनिया बदल रही है। आजकल पुरुष और महिला एक दूसरे के समान हैं, न कोई बड़ा,…

Read More →
जानवरों के साथी हाथी

जानवरों के साथी हाथी

नन्हें आरव के दादाजी ने उसे जानवरों के साथी हाथी के बारे में बताया। नन्हा अरनव कल ही अपने स्कूल…

Read More →
चित्रांगदा और जलपरी रूही

चित्रांगदा और जलपरी रूही

चित्रांगदा एक नयी दोस्त बनती है, जलपरी रूही, जो उसकी मदद करती है। चित्रांगदा किशनगढ़ के राजा विक्रम सिंह की…

Read More →
आधुनिक परी जैसी सोच

आधुनिक परी जैसी सोच

सुगंधा की प्यारी सोच की वजह से वह ‘आधुनिक परी’ कहलाई। ६ साल की बिटिया, सुगंधा का जन्मदिन आनेवाला था।…

Read More →
पढ़ने का आत्मविश्वास

पढ़ने का आत्मविश्वास

कस्तूरबा मैम ने मिथिला में पढ़ने का आत्मविश्वास जगाया। एक समय की बात है, रावल नाम के शहर में, मिथिला…

Read More →
रुद्र की लेह-लद्दाख यात्रा

रुद्र की लेह-लद्दाख यात्रा

रुद्र की लेह-लद्दाख यात्रा बहुत ही मनोरंजक रही। उसने वहाँ के बारे में बहुत कुछ जाना। रुद्र की जिद्द पर…

Read More →
पाब्लो पिकासो: एक महान चित्रकार

पाब्लो पिकासो: एक महान चित्रकार

पिया की फ़्रांस यात्रा से उसे पाब्लो पिकासो के चित्र और उसके बारे में जानने को मिला। पिया अपने माता-पिता…

Read More →
मेरी हार

मेरी हार

आप सोचेंगे कि मुझे मेरी हार से खुशी क्यूँ मिल रही है? जानने के लिए आगे पढ़िये। दोपहर से शाम…

Read More →
हिंदी – राष्ट्रीय भाषा की घोषणा

हिंदी – राष्ट्रीय भाषा की घोषणा

भाई-बहन रमन और सुधीर को हिन्दी के राष्ट्रिय भाषा होने या न होने के लिए अपने विचार प्रकट करने थे।…

Read More →
समझदार छोटू

समझदार छोटू

समझदार छोटू अप्पू ने पानी की बरबादी के बारे में बताया। सर्दी में सूरज, गर्मी में जल से प्यार हो…

Read More →
बालक शंकर

बालक शंकर

आइये, आठवीं सदी में एक गरीब ब्राह्मण परिवार में पैदा हुए बालक शंकर की कहानी सुनिए। आज एक अक्टूबर है।…

Read More →
हैप्पी बर्थडे

हैप्पी बर्थडे

लेखक ने अपनी लगन से अपने पोते के लिए प्यानो पर  हैप्पी बर्थडे बजाना सीखा। बड़े लोगों को अक्सर यह…

Read More →
छोटा कद

छोटा कद

सजल ने जान की छोटा कद किसी की महान काम करने से नहीं रोक सकता। “मधु मैम दूसरी कक्षा का…

Read More →
प्लास्टिक बोतल वाला किसान

प्लास्टिक बोतल वाला किसान

श्याम ने प्लास्टिक बोतल मे खेती करके अपने परिवार की ज़िंदगी बदल दी। गर्मियों का मौसम था। श्याम और गौरी…

Read More →
हरियाली की ओर

हरियाली की ओर

इस लेख से आप हरियाली की ओर बढ़ने के लिए प्रेरित होंगे! जब से जीवन का आरंभ हुआ है, तब…

Read More →
अरुण की बुद्धिमानी

अरुण की बुद्धिमानी

अरुण ने अपनी बुद्धिमानी से गाँव को बाढ़ से बचाया। यह कहानी मैरी मैप्स डॉज की किताब ‘हंस ब्रिंकर’ पर…

Read More →
छोटा जीनियस तुममें भी कही छिपा है

छोटा जीनियस तुममें भी कही छिपा है

आप सब में एक छोटा जीनियस छुपा है। बस उसे ढूंढने की देर है। महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइन्सटाइन ने कहा…

Read More →
जो होता है,  भले के लिए होता है

जो होता है, भले के लिए होता है

वैभव स्कूल से लौटा, तब उसका चेहरा तमतमाया हुआ था।  उसने किसी से कोई बातचीत नहीं की, सीधे अपने कमरे…

Read More →
दिमाग की पहेली

दिमाग की पहेली

वार्षिक इंटर-स्कूल प्रतियोगिता में भाग लेते हुए वर्तिका और पलक ने जाना कि दायें और बायें दिमाग की पहेली क्या है।  First…

Read More →
कामयाबी की अभिलाषा

कामयाबी की अभिलाषा

बुलबुल ने सीखा कि कामयाबी की अभिलाषा के साथ-साथ उसे अपनी हार को स्वीकार करना भी आना चाहिए।  पिछले साल के…

Read More →
मेरे जैसा कोई नहीं

मेरे जैसा कोई नहीं

कल से गर्मी की छुट्टियाँ होने वाली थीं। कनिका बहुत उत्साहित थी। उसने इन गर्मी की छुट्टियों में कुछ ख़ास…

Read More →
गलती का निवारण

गलती का निवारण

गलतियाँ सभी से होती हैं, चाहे वो बड़े हों या छोटे। पर गलती का निवारण करना जरूरी है।  जानकी मौसी…

Read More →
शैतान मोनू

शैतान मोनू

पाँच वर्ष के मोनू की शैतानियाँ दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रहीं थीं। वह घर में दादी, बाबा, मम्मी, पापा सभी…

Read More →
पतंग

पतंग

लटक-झटक, मटक-मटक, चली चली रे चली, मैं उड़ चली, हवा के साथ-साथ मैं बह चली, कभी इधर तो कभी उधर,…

Read More →
छोटी सी नन्ही, बड़ी सी उड़ान

छोटी सी नन्ही, बड़ी सी उड़ान

नीलवन कश्मीर की वादियों में स्थित एक घना जंगल था।  नीलवन में कई तरह के पेड़ पौधे, पक्षी और जानवर…

Read More →
हाथी का घमण्ड

हाथी का घमण्ड

गज्जू हाथी का घमंड उसे मुसीबत में डाल देता है।  नंदनवन में गज्जू नाम का हाथी रहता था। अपने बड़े…

Read More →
लाडला

लाडला

गोलू का नया दोस्त पिंटू अपने बड़ों का लाडला था, इसलिए उनका आदर करना नहीं जानता था।  तक़रीबन तीन साल…

Read More →
बुरी बात

बुरी बात

शालू ने सीखा कि किसी को कष्ट देकर मजा करना बुरी बात है।  नन्हे शालू की शैतानियाँ दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा…

Read More →
शरारत का पुराना केक

शरारत का पुराना केक

रवि ने सीखा की जरूरत से ज्यादा शरारत नहीं करनी चाहिए।  रवि एक शरारती लड़का था। सभी उसके जरूरत से…

Read More →
जूते ने दिमाग खोला

जूते ने दिमाग खोला

मुन्ना की ताई बचपन से गाँव में रहीं थी। उनकी शादी भी ताऊ से गांव में ही हो गई थी।…

Read More →
उसकी लिखावट

उसकी लिखावट

किसी का व्यक्तित्व जानने के लिए उसकी लिखावट समझना काफी है।  “अरे अंजु! क्या तुमने हमारी कक्षा की उस नई…

Read More →
शरारत

शरारत

रवि ने अपनी विनम्रता से उसपर हुई शरारत को वरदान में बदल दिया।  कंपाउंड में खूब शोर शराबा हो रहा…

Read More →
वास्तविक  संस्कृति

वास्तविक संस्कृति

शशांक और सिद्धार्थ ने पैर छूने की वास्तविक संस्कृति बताई। शशांक और सिद्धार्थ जुड़वा भाई लगभग ७ वर्ष के थे।…

Read More →
न्याय का फैसला

न्याय का फैसला

एक राजा ने न्याय का फैसला लेकर अपने राज्य में खुशहाली फैलाई। अवंतिका नाम की नगरी में एक राजा राज्य…

Read More →
ताड़पत्र पर हमारा भाग्य

ताड़पत्र पर हमारा भाग्य

एक ज्योतिषी ने हमें ताड़पत्र पर से हमारा भाग्य बताने की कोशिश करी।  ज्योतिष विद्या एक अनोखी विद्या है, यह…

Read More →
सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली सत्यवती की

सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली सत्यवती की

सिंहासन बत्तीसी की अगली कहानी में राजा विक्रमादित्य की उदारता और त्याग के बारे में पढ़िये। चमत्कारी सिंहासन पर बैठने…

Read More →
आत्म सुरक्षा कवच

आत्म सुरक्षा कवच

लीना और उसकी माँ ने आत्म सुरक्षा के बारे में चर्चा की। जब से लीना स्कूल से आई, माँ ने…

Read More →
जादुई जूते – ९

जादुई जूते – ९

वेंकू, रुहिन, तनुष और आशीष ने अपने जादुई जूते से एक नन्ही बच्ची को अपने घर वापस पहुंचाया। मिस्टर लाल…

Read More →
रावण

रावण

बच्चों में आपस में बहस छिड़ गयी की रावण के दस सिर थे या नहीं। अग्रवाल अंकल ने यह गुत्थी सुलझाई। …

Read More →
ख़िलौने से गाँव में सुरक्षा

ख़िलौने से गाँव में सुरक्षा

संतोष जी ने गाँव में सुरक्षा बनाने के लिए एक समाधान बताया। गुरुग्राम क्षेत्र में विकास बेहद तेज़ी से हो…

Read More →
सेल्फी का भूत

सेल्फी का भूत

कुछ छात्राओं के सेल्फी के भूत से कक्षा की पिकनिक बीच में ही रद्द कर दी जाती है। कक्षा में…

Read More →
मैं झाँसी की रानी

मैं झाँसी की रानी

सीया झाँसी की रानी की कहानी सुनकर प्रेरित होती है। नन्ही सिया को अपने स्कूल में फैंसी ड्रैस प्रतियोगिता में…

Read More →
आइसक्रीम

आइसक्रीम

आइसक्रीम का मौसम आया, हम सब को इसने ललचाया, मुन्ना दादी पास भागा आया, पैसे दो, पैसे दो, उसने चिल्लाया,…

Read More →
उजड़ी बहारें – एक बूढ़े पेड़ की ज़बानी

उजड़ी बहारें – एक बूढ़े पेड़ की ज़बानी

बूढ़े पेड़ भी जीव-जंतुओं को सहारा प्रदान करते हैं। एक मनुष्य ही है, जो उनकी कद्र नहीं करता। इसके अतिरिक्त…

Read More →
भावनात्मक बुद्धिमानी

भावनात्मक बुद्धिमानी

क्या आप में  भावनात्मक बुद्धिमानी है? आइये  जानते हैं।   हम सब ‘बुद्धिमानी’ शब्द के लिए बहुत हक़ दिखाते हैं। बुद्धिमान…

Read More →
धूप छाँव – खेजड़ी का पेड़

धूप छाँव – खेजड़ी का पेड़

विश्नोई समुदाय को खेजड़ी का पेड़ बहुत महत्वपूर्ण है। पढ़िये उनकी कहानी। धूप छाँव नाम का यह पार्क शहर के…

Read More →
अंतरिक्ष में सुरक्षा

अंतरिक्ष में सुरक्षा

क्या आप जानते हैं की अंतरिक्ष यात्री अंतरिक्ष में सुरक्षा कैसे बनाएँ रखते है? अदिति अपने चाचा से बड़ी नाराज़…

Read More →
सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली मदनवती की

सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली मदनवती की

सिंघासन बत्तीसी के अगले भाग में मदनवती विक्रमादित्य के त्याग और साहस के बारे में बताती है। पंद्रहवें दिन प्रात:…

Read More →
चंद्र ग्रहण के विषय में

चंद्र ग्रहण के विषय में

पढ़िये चंद्र ग्रहण के पीछे के विज्ञान के बारे में। कुछ ही माह पूर्व, यदि सटीक कहें तो जनवरी २०१८…

Read More →
हिन्दी की दीवार

हिन्दी की दीवार

भाषाएँ लोगों को एक दूसरे से बात करने में मदद करती हैं। लेकिन हिरण्मई ने सीखा कि हिन्दी की दीवार…

Read More →
एक अदभुत सी यात्रा

एक अदभुत सी यात्रा

हमारी लेखक को अपने बचपन की एक अद्भुत सी यात्रा आज भी याद है।  First published in March 2016 यह…

Read More →
सुखद यात्रा – १

सुखद यात्रा – १

रेवान्त और राकेश के मम्मी-पापा उन्हें एक सुखद यात्रा पर मेरठ, हरिद्वार और ऋषिकेश ले कर गए।  First published in December…

Read More →
रेल यात्रा

रेल यात्रा

रिया की एक रेल यात्रा ने उसे जिंदगी से संतुष्ट रहना सिखाया।  First published in July 2017 रिया के ग्रीष्मकालीन…

Read More →
अधूरे सपने

अधूरे सपने

बरखा ने घर की जिम्मेदारियाँ संभालने में अपने अधूरे सपने पूरे नहीं किए। उनके बेटे और बहू ने उनकी इच्छा…

Read More →
रेलगाड़ी

रेलगाड़ी

रेलगाड़ी छुक छुक करती जाती, हमको सैर सपाटा करवाती, जगह जगह के नज़ारे दिखाती, बस आगे चलती जाती,बढ़ती जाती। राजस्थान…

Read More →
जादुई जूते – भाग १

जादुई जूते – भाग १

इस शृंखला के पहले भाग में पढ़िये कि वैंकू, तनुष, रुहिन, आशीष और जैनी को जादुई जूते कैसे मिले।  First…

Read More →
नौ दोस्त – साहस की कहानी

नौ दोस्त – साहस की कहानी

बसाप्पा व्यापार के लिए अकेला यात्रा कर रह था। पढ़िये उसके साहस की कहानी।  First published in August 2016 कर्नाटक…

Read More →
बोझ

बोझ

एक व्यापारी ने बोझ का असली मतलब सीखा।  First published in April 2016 भारत में राजस्थान नामक एक राज्य है।…

Read More →
स्थानान्तरण में दोस्ती का रास्ता

स्थानान्तरण में दोस्ती का रास्ता

स्वाती के दादाजी ने उसे स्थानान्तरण में दोस्ती का रास्ता ढूँढना सिखाया।  First published in May 2017 स्वाती के पापा का…

Read More →
रंग संहिता

रंग संहिता

First published in November 2016 महानायक कलरमैन एक बुरे व्यक्ति को पकड़ने के लिए आकाश में उड़ रहा था। तभी…

Read More →
अभय – भाग ३

अभय – भाग ३

First published in April 2016. अभय एक १८ साल का करामाती जासूस है। वो समझदार है, हमेशा सीधी बात करता…

Read More →
अभय – भाग २

अभय – भाग २

अभय एक १८ साल का करामाती जासूस है। वो समझदार है, हमेशा सीधी बात करता है, मगर कई बार लोग…

Read More →
कहानी मच्छर की

कहानी मच्छर की

बच्चों, मच्छर तो करीब करीब हर शहर में, हर घर में पायें जाते हैं। इतना ही नहीं मच्छरों का काटना…

Read More →
कहानी कहते पेड़

कहानी कहते पेड़

मानव चेहरों की तरह ही, पेड़ों में भी कुछ कहानियाँ दिखती हैं। ऐसा लगता है मानो वे समाज और लोगों…

Read More →
भालू का राज़

भालू का राज़

कड़ाके की ठंड पड़ रही थी। बिल्लू बंदर गर्म जैकेट, टोपी, मफलर वगैरह पहन कर अपने घर से निकला। फिर…

Read More →
सुखद यात्रा – २

सुखद यात्रा – २

पिछले अंक में आपने पढ़ा कि रेवान्त का परिवार एक सुखद यात्रा पर मेरठ होते हुए हरिद्वार - ऋषिकेश जा…

Read More →
रहस्य का ज्ञान

रहस्य का ज्ञान

खचाखच भरे सभागार में जैसे ही वक्ता ने बोलना शुरू किया कि वहाँ शांति छा गई। बच्चे ध्यान से उन्हें…

Read More →
आप आयेंगे न – २

आप आयेंगे न – २

अब तक आपने पढ़ा कि राहुल और पूजा ने फिल्मों से प्रेरित होकर, बिना अपने माँ-बाप को बताए कचहरी में…

Read More →
आँखों को उपहार

आँखों को उपहार

आज अचानक आँखों को अपनी परोपकारी प्रवृत्ति की याद आ गई और वे पहले तो उन्माद से भर गई कि…

Read More →
दोस्ती

दोस्ती

‘सुखमय कॉलोनी’ एक सुन्दर एवं हरी भरी कॉलोनी थी। इसकी विशेषता यह थी कि इसमें बहुत सारे मोर रहते थे।…

Read More →
कृष्ण कन्हैया

कृष्ण कन्हैया

“तुम्हारे तो भगवान भी लड़कियों को छेड़ा करते थे”, जूली ने कहा तो किसी ग्रुप में था, किंतु पास से…

Read More →
पक्षियों का निराला संसार

पक्षियों का निराला संसार

“आज मेरे मामा जी आ रहे हैं!” खुशी से चहकते हुए मनीष ने राहुल को बताया। राहुल उसका पड़ौसी था…

Read More →
जादुई जूते (मिशन ७)

जादुई जूते (मिशन ७)

जब से टी वी पर लंदन की संसद पर आतंकी हमले की कोशिश की खबर आई तब से वैंकू और…

Read More →
ढोंगी बाबा

ढोंगी बाबा

सुमेधा और दिव्या बहुत अच्छी सहेलियाँ थी। दोनो को एक दूसरे के साथ रहना और खेलना बहुत पसंद था। परीक्षा…

Read More →
चिंटू की साइकिल  – साइकिल की खोज

चिंटू की साइकिल – साइकिल की खोज

चिंटू और उसके दोस्त बारिश के मौसम से परेशान हो चुके थे। इतनी बरसात हो रही थी कि उन्हें साइकिल…

Read More →
रहस्य

रहस्य

“बादाम कहाँ गए, मैंने यहीं पर तो भिगोकर रखे थे! देखो, यहाँ बादाम के छिलके पड़े है”। रागिनी के पूरे…

Read More →
अभय कॉमिक – भाग १

अभय कॉमिक – भाग १

First published in February 2016 edition. अभय एक १८ साल का करामाती जासूस है। वो समझदार है, हमेशा सीधी बात…

Read More →
किशन की सूझ-बूझ

किशन की सूझ-बूझ

एक बहुत ग़रीब किसान किशन अपने परिवार के साथ छोटे से गाँव में रहता था। रात-दिन मेहनत करके किसी तरह…

Read More →
रहस्यात्मक भौंक

रहस्यात्मक भौंक

गुंजन ने विद्यालय से घर आ कर बताया। “आज हमें नए शब्द ‘रहस्य’ से परिचित किया। साथ ही दीदी ने कहा…

Read More →
सेमल

सेमल

वर्ष के इस समय में दिल्ली के आसपास घूमने और रहने वाले लोगों ने इस ऊँचे और मजबूत सेमल के…

Read More →
सबक मिला

सबक मिला

स्कूल से वापस आते हुए संभव बहुत खुश था। उसका मनपसंद टीवी सीरियल जो आना था आज। संभव को टीवी…

Read More →
मीठी

मीठी

पाँच वर्ष की मीठी बड़ी नटखट और चंचल थी। एक दिन मम्मी ने देखा कि मीठी काम वाली बाई की…

Read More →
घड़ी

घड़ी

“घड़ी–घड़ी मेरा दिल धड़के...क्यों धड़के...” रेडियो पर लता जी की मधुर आवाज गूंज रही थी और रेडियो को साफ करते…

Read More →
इंद्रधनुष

इंद्रधनुष

चन्दन नगर का राजा चंद्रवर्मन् बड़ा ही लोकप्रिय राजा था। उसके राज्य में प्रजा बड़ी सुखी थी। चारों तरफ शान्ति…

Read More →
चॉकलेट्स

चॉकलेट्स

करन चौथी कक्षा में पढ़ने वाला एक बच्चा था। एक दिन वह अपनी कक्षा में पहुंचा तो उसने देखा की…

Read More →
खुशी का उपहार

खुशी का उपहार

कार्यक्रम में जाने के लिए तैयार होना था और तनीषा बहुत उत्सुक थी अपनी पसंदीदा गुलाबी फ्रॉक पहनने को। माँ…

Read More →
मच्छर – महान

मच्छर – महान

इस बार विद्यालय में प्रथम एवं द्वितीय कक्षा के बच्चों के माता पिता को सूचना मिली थी - आप छुट्टियों में…

Read More →
आनंद का आनंदी स्वरुप

आनंद का आनंदी स्वरुप

राजस्थान के गगोरान के पास एक बड़ा मशहूर राष्ट्रीय स्तर का इंजीनियरिंग विद्यालय था। जिसमे पूरे देश के छात्र बड़ी…

Read More →
सच्चाई की ताकत

सच्चाई की ताकत

प्रकाश ने अपने आप को सच्चाई से पहचाना और बदलना चाहा।  प्रकाश का पढ़ाई में बिल्कुल मन नहीं लगता था।…

Read More →
डाकिया

डाकिया

डाकिया आया, डाकिया आया, खाकी कपड़े में साईकिल पर आया, ढेर सारे ख़तों को अपने साथ लाया, सभी अपनो की…

Read More →
सबसे अच्छे दिन

सबसे अच्छे दिन

एक नगर में एक सेठ रहता था। वह बहुत धनवान था। उनके पास किसी चीज की कमी नहीं थी। उसके…

Read More →
पारस

पारस

करीब ३० साल पहले की बात है। मध्य प्रदेश के भोपाल शहर में श्रीमान उदय गुप्ता अपने सुखी परिवार के…

Read More →
‘पेशे’ का अभिव्यक्ति से सम्बन्ध

‘पेशे’ का अभिव्यक्ति से सम्बन्ध

पारुल अपने मातापिता की अकेली बच्ची थी। बेहद शांत, पढ़ने में होशियार, आदत और व्यवहार से उत्तम। धीरे-धीरे जब कोई…

Read More →
सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली इंदुमती की

सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली इंदुमती की

यद्यपि राजा भोज अब तक किसी पुतली को संतुष्ट नहीं कर सके थे परंतु चमत्कारी सिंहासन पर बैठने की लालसा…

Read More →
अमर रहें

अमर रहें

अस्पताल भी कैसी जगह है! दर्द, पीड़ा, बीमारी से जूझता व्यक्ति यहाँ का रुख करता है। अपार भीड़ और अपने…

Read More →
पाखण्ड पेशा

पाखण्ड पेशा

लालनपुर क़स्बा शहर और गाँव दोनों से बराबर जुड़ा हुआ था। कस्बे के बीच में से लंबा रास्ता निकल रहा…

Read More →
अलबेला फ़ैशन-शो

अलबेला फ़ैशन-शो

चंचलवन में फ़ैशन-शो की तैयारियाँ चल रही थी। सभी अपने कपड़े जग्गू भेड़िए से सिलवाने में लगे थे। बड़की हथिनी…

Read More →
असली सॉफ्टवेयर

असली सॉफ्टवेयर

दस साल के आशीष को सारे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का बेहद जुनून था। अगर विद्यालय से आकर आराम करना है तो स्मार्ट…

Read More →
जीवनदायी वृक्ष

जीवनदायी वृक्ष

श्रेय बहुत शैतान बच्चा था। पार्क में खेलते सभी बच्चे उससे परेशान रहते थे। पार्क का माली तो कह कह कर…

Read More →
अनोखा सांता क्लौज़

अनोखा सांता क्लौज़

दिसंबर का महिना था। रौनक और उसकी कॉलोनी के सभी बच्चे बड़े उत्साह से क्रिसमस के त्योहार का इंतज़ार कर…

Read More →
ओशिएनोग्राफ़ेर्स – थल से आगे भी देखना

ओशिएनोग्राफ़ेर्स – थल से आगे भी देखना

बहुत समय पहले, मैंने एक सुंदर किताब पढ़ी थी, ‘द कैचर इन द राय’। किताब में जब कोई नायक, होल्डन…

Read More →
विक्कु बने विवेकानंद

विक्कु बने विवेकानंद

गगन और मगन दोनों बड़े अच्छे दोस्त थे। दोनों साथ साथ टहलते हुए विद्यालय जाते थे। रोज नई बातों से…

Read More →
किसने मुझे रेड ऑक्साइड पेंट किया

किसने मुझे रेड ऑक्साइड पेंट किया

अपने जीवन के पंद्रह वर्ष तक दल का नेतृत्व करते हुए आज मैं गर्व के साथ एक सम्मानित स्थान पर…

Read More →
हॉकी और भारत में उसका स्वर्णिम इतिहास

हॉकी और भारत में उसका स्वर्णिम इतिहास

इस बात को अधिक समय नहीं हुआ था जब मैं और मेरा बेटे भारत के राष्ट्रीय खेल, जो कि मेरी…

Read More →
मेरी प्रेरणा – मेरी दीदी

मेरी प्रेरणा – मेरी दीदी

बधाइयाँ स्वीकार करते-करते अभयदेव का गला सूख गया। जिलाधिकारी का कार्यभार ग्रहण करने आफिस पहुँचे, तो वहाँ लोगों की भीड़…

Read More →
सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली इंद्रसेना की

सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली इंद्रसेना की

ग्यारहवें दिन प्रात: उठते ही राजा भोज के मन में फिर चमत्कारी सिंहासन पर बैठने की लालसा बलवती हुई। वे…

Read More →
भारत रत्न

भारत रत्न

अर्जुन ने सिर पर बंधा तौलिया कुर्सी पर पटका और बड़बड़ाते हुए जूते उतारने लगा। “का हुआ रहा भैया? इतने…

Read More →
बुज़ुर्गों की टीम

बुज़ुर्गों की टीम

शर्मा परिवार में चाचा-ताऊ पिता सभी के मिला कर तेरह बच्चे थे। परिवार का मुख्य स्थान हस्तिनापुर में था। बड़ी…

Read More →
ऊर्जा प्रयोग

ऊर्जा प्रयोग

रूप लता चौधरी होमिओपेथी चिकित्सक के रूप में बहुत मशहूर थी। होमियोपेथी चिकित्सा का मूल आधार है व्यक्ति की आदत…

Read More →
अनाड़ी खिलाड़ी

अनाड़ी खिलाड़ी

अंकित ने दूर से देखा कि राजन रेसिंग ग्राउंड में बड़ी तेजी से दौड़ रहा था। फिनीश लाइन के पास…

Read More →
नाग देवता

नाग देवता

दशहरे - दिवाली की छुट्टियाँ शुरू होने वाली थी। आरुषि और यश के ताऊजी-ताईजी गाँव से आ रहे थे, उनके…

Read More →
नशा

नशा

नवीं कक्षा का प्रतिभावान बच्चा सुबोध छुट्टी के समय स्कूल से निकला तो अगले ही मोड़ पर उसके कुछ सहपाठियों…

Read More →
उभरते खिलाड़ी

उभरते खिलाड़ी

मंजू आंटी और मम्मी बहुत अच्छी सहेलियाँ हैं। उनकी बेटी नेहा और मैं साथ में ही पढ़ते है। मैं जब…

Read More →
प्राचीन खेल पतंगबाज़ी

प्राचीन खेल पतंगबाज़ी

भारत में लोगों को पतंग का बहुत शौक़ है। हमारे देश के साथ-साथ यह शौक चीन, कोरिया और थाइलैंड सहित…

Read More →
तैराकी प्रतियोगिता

तैराकी प्रतियोगिता

उत्तर भारत में गर्मियों की लम्बी छुट्टियों होती है। जिसमें ज़्यादातर बच्चों को तैराकी सिखाई जाती है। कुछ बेहद शौक…

Read More →
शहीदी कुआं

शहीदी कुआं

“अरे! सुमित तुम कहाँ चले गए थे यार! मैं तो तुम्हारे बिना परेशान हो गया था”, अरुण ने सुमित को…

Read More →
आशीर्वाद

आशीर्वाद

सिमरन की दादी बहुत सफाई पसन्द महिला थीं। उनके कमरे में हर चीज बड़े ही कायदे से रखी होती थी।…

Read More →
ऐसे होते हैं खेल के दिग्गज

ऐसे होते हैं खेल के दिग्गज

ध्यानचंद भारत में हॉकी के जादूगर कहे जाने वाले मेजर ध्यानचंद सिंह, २९ अगस्त, १९०५ को, उत्तर प्रदेश के इलाहबाद…

Read More →
मिट्ठू

मिट्ठू

“भैया मिट्ठू, भैया मिट्ठू!” ज़ोर-ज़ोर से भाई को पुकारती हुई टीना पार्क के उस कॉर्नर पर आयी, जहाँ उसका भाई…

Read More →
चिंटू की साइकिल – अंतरिक्ष की सैर

चिंटू की साइकिल – अंतरिक्ष की सैर

  उद्यान में चिंटू और उसके दोस्त एक टक आसमान पे नज़रें गढ़ाए बैठे थे। भीम ने आह भरते हुए…

Read More →
भाग्यशाली तीन पेड़

भाग्यशाली तीन पेड़

अत्यंत व्यस्त इलाके के एक महत्वपूर्ण स्थान पर, एक व्यस्त उपमार्ग के बीचों बीच स्थित हम हमेशा सोचते रहे कि…

Read More →
चलो खेलें

चलो खेलें

बुआ अपने बेटे वरेण्य के साथ जब गर्मियों की छुट्टी में अमरीका से भारत आया तो अनीशा और उज्ज्वल को…

Read More →
रौफ: कश्मीर जितना आकर्षक एक नृत्य

रौफ: कश्मीर जितना आकर्षक एक नृत्य

सभी छात्र आने वाले ‘वार्षिक दिवस’ पर प्रस्तुत किये जाने वाले विशेष कार्यक्रम के लिए योजना बना रहे थे। शिक्षिका…

Read More →
पसंदीदा वर्कशॉप 

पसंदीदा वर्कशॉप 

गर्मी की छुट्टियाँ शुरू हुई। पाँचवी पास गगन को पहली बार कम्प्यूटर वर्कशॉप में जाने का मौक़ा मिला। आधार ज्ञान…

Read More →
झटके ने फोड़ा चिंता – बोझ का मटका

झटके ने फोड़ा चिंता – बोझ का मटका

राधिका को नौकरी करते हुए चार साल हो गए थे। विद्यालय के बाद महाविद्यालय का अलग तज़ुर्बा रहा। लेकिन नौकरी…

Read More →
गोनू की दीवाली स्वच्छता के साथ

गोनू की दीवाली स्वच्छता के साथ

गोनू दीवाली की तैयारी बहुत ज़ोरों-शोरों से कर रहा था। अभी दीवाली को आने में पूरे दस दिन बाक़ी थे…

Read More →
सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली प्रभावती की

सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली प्रभावती की

दसवें दिन राजा भोज पुन: सिंहासन पर बैठने हेतु राजमहल पहुंचे किन्तु ज्यों ही उन्होनें सिंहासन पर बैठना चाहा, दसवीं…

Read More →
खिलौने

खिलौने

नन्दिता गाड़ी में पीछे की सीट पर बैठी कुछ सोच रही थीं कि अचानक एक दृश्य ने उनका ध्यान आकर्षित…

Read More →
चतुर कौए का चतुर बेटा

चतुर कौए का चतुर बेटा

एक जंगल में कोको नाम का एक कौआ रहता था। उसकी बहुत सारे पक्षियों से दोस्ती थी। जंगल में एक…

Read More →
वागह बौर्डर

वागह बौर्डर

“पापा मुझे बी एस एफ में जाने के लिए क्या करना होगा?” चिंटू ने नाश्ता करते हुए पापा के पास…

Read More →
जादुई जूते – मिशन ४

जादुई जूते – मिशन ४

सावन का महीना प्रारम्भ होते ही चारों ओर बम–भोले का प्रभाव दृष्टिगोचर होने लगता है। कांवड़ियों को उठाने वालों का…

Read More →
कहानी पर उभरा ज्ञान

कहानी पर उभरा ज्ञान

सड़क के किनारे झोपड़पट्टी में बहुत सारे मज़दूर गरीब परिवार रहते थे। सभी बड़े लोग काम काज में लगे रहते…

Read More →
अपहरण – २

अपहरण – २

पिछले अंक में आपने पढ़ा कि शम्भवी परीक्षा के बाद घर नहीं लौटी। अब आगे पढ़िये। धीरे-धीरे शाम हो गई।…

Read More →
समाधान

समाधान

अच्छे अंकों से उत्तीर्ण होने के बाद रोहित की छटवी कक्षा में उन्नति हो गई थी। वह और उसके साथी…

Read More →
मुहावरे

मुहावरे

नर्सरी में पढ़ने वाले शिवम और उसके बड़े भाई परम को मम्मी होमवर्क करा रही थीं। शिवम बोला, “मैंने तो…

Read More →
मुहर्रम की कहानी

मुहर्रम की कहानी

वीरेन अपनी घर की बॉलकनी में खड़ा था। तभी उसके कानों में लोगों की चीख़ने की आवाज़ आयी। सभी अपने…

Read More →
जादुई जूते – मिशन ५

जादुई जूते – मिशन ५

रतनपुर की हवेली आजकल चर्चा का विषय बनी हुई है। जब से इसके मालिक राजा रतनसेन सपरिवार विदेश गए थे।…

Read More →
कहानी पुतली मधुमालती की

कहानी पुतली मधुमालती की

नौंवे दिन राजा भोज स्नानादि से निवृत होकर पुन: सिंहासन पर आरूढ़ होने की लालसा मन में लेकर दरबार में…

Read More →
जादूगर चंदामामा

जादूगर चंदामामा

कल ईद थी। सभी छत पर चाँद देखने की कोशिश कर रहे थे। पर चाँद को देखते ही नन्ही ग़ज़ल…

Read More →
संस्कार

संस्कार

रॉकी अब बूढ़ा हो चुका था। वह चार वर्ष के नन्हे मोनू के बुलाने पर बस आँखें खोल देता। कभी…

Read More →
अपहरण – १

अपहरण – १

रतनपुर गाँव शाहाबाद से लगभग आठ किलोमीटर दूर है। गांव में एक प्राइमरी स्कूल है, जो राम भरोसे चलता है।…

Read More →
रानी

रानी

माथे पर छोटी सी लाल बिंदी, माँग में सिन्दूर भरे, एक सादी सी गुलाबी साड़ी में लिपटी जो लड़की मेरे…

Read More →
सबका साथी

सबका साथी

रोहित बेहद गंभीर छत्र था। उसका सारा समय लिखने–पढ़ने में बीतता था। कंप्यूटर और वीडियो गेम बहुत पसंद थे। वह…

Read More →
धन्यवाद मैम

धन्यवाद मैम

मीनल और राहुल दो जुड़वाँ भाई बहन थे। दोनों में बेहद प्यार था परंतु वे लड़ते भी बहुत थे। मीनल…

Read More →
हर जगह कान

हर जगह कान

नन्ही टीना बगीचे में बैठी गिटार बजा रही थी। वह गाना भी गुनगुना रही थी। अचानक उसने एक धीमी आवाज़…

Read More →
हनुमान जी

हनुमान जी

सलमान मुसलमान, और मुकुंद हिन्दू, दोनों लड़के अच्छे दोस्त थे। दोनों साथ साथ विद्यायल जाते थे। दोनों दूसरी कक्षा में पढ़ते…

Read More →
पेड़ों का अंकन

पेड़ों का अंकन

हमारे जैसे बहुत लोगों की तरह, पेड़ भी देश के विभिन्न नगरों की कॉलोनियों में रहते हैं और उनका भी…

Read More →
सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली पुष्पवती की

सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली पुष्पवती की

आठवें दिन प्रात: स्नानादि कार्यों से निवृत होकर राजा भोज पुन: सिंहासन पर बैठने की लालसा मन में लेकर राजभवन…

Read More →
महान विद्वान रामानुजन

महान विद्वान रामानुजन

अध्यापिका ने अपनी कक्षा में छात्रों से उस व्यक्ति के बारे में लिखने को कहा जिसने उन्हें प्रेरित किया हो।…

Read More →
आज का बीरबल

आज का बीरबल

दीपक को कहानियाँ पढ़ने का बहुत शौक था। उसे जब भी वक़्त मिलता वह कोई नयी पुस्तक पढ़ने लगता। उसके…

Read More →
त्यौहार ही त्यौहार

त्यौहार ही त्यौहार

आदित्य अपने से चार साल छोटी बहन श्वेता को हिंदी में निबन्ध याद करा रहा था। विषय था ‘भारत के…

Read More →
ठहाका खेल

ठहाका खेल

अनुपमा दीदी के पास छोटे बच्चे पढ़ने आते थे। शाम को दो घंटा पढ़ते थे। पढ़ाई के बाद वो टिफ़िन…

Read More →
अद्भुद मुहावरे

अद्भुद मुहावरे

अंकुर आरम्भ में कई वर्ष विदेश रह कर भारत आया था। किसी भी विद्यालय में हिंदी ज्ञान के बिना पढ़ाई…

Read More →
जादूई जूते – मिशन ४

जादूई जूते – मिशन ४

सीमाओं पर वायरलैस के माध्यम से की गई रिकॉर्डिंग से अब यह स्पष्ट हो चुका था, दुश्मन हमारे विज्ञान रिसर्च…

Read More →
ऊँची उड़ान

ऊँची उड़ान

एक बार एक राजा शिकार के लिए जंगल गया। वहाँ से लौटने पर उसके एक सिपाही ने दो गरुड़ के…

Read More →
असल जिंदगी का हीरो

असल जिंदगी का हीरो

छुट्टी का दिन था, सोसाइटी से सटे पार्क मे सब धूप का आनंद ले रहे थे। वयोवृद्ध कर्नल संग्राम सिंह…

Read More →
काली माई

काली माई

छम, छम ! छम, छम ! छम, छम ! काली माई आ गई!..... काली माई आ गई !.... एक बच्चे…

Read More →
चूइंग गम की लत

चूइंग गम की लत

चूइंग गम की ओर प्रेम व लालसा! क्या यह हानिकारक नहीं है? कल्पना करिए कि आप अपने मित्रों के साथ…

Read More →
तर्क का प्रयोग

तर्क का प्रयोग

विहान बड़े मज़ेदार बालक थे। वो ‘तर्क-विद्या' का प्रयोग करने में दिलचस्पी रखते थे। ४ साल के होते ही उन्हें…

Read More →
सत्संग

सत्संग

शहर का व्यस्त इलाका, उसमें स्थित है एक मंदिर, जिसमें आम तौर पर भीड़ नहीं रहती थी, परंतु आजकल बहुत…

Read More →
माली

माली

हाँ, मैं गौरवान्वित हूँ कि मैं युवा हूँ और अपने पारंपरिक पारिवारिक व्यवसाय में हूँ। मैं यह नहीं कह रहा…

Read More →
पानी का कटोरा

पानी का कटोरा

अजय बगीचे में खेल रहा था और अपने खिलौनों के साथ इधर उधर कूद रहा था। वह छाया में जाने…

Read More →
वृक्ष बोले

वृक्ष बोले

पेड़ उस समय से अस्तित्व में हैं जबसे मानव जाति का जन्म हुआ। हालांकि पेड़ अचल हैं, किन्तु वे मानव…

Read More →
सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली सुकेशी की

सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली सुकेशी की

सिंहासन पर बैठने को लालायित राजा भोज ने सातवें दिन जैसे ही अपने कदम बढ़ाए, सिंहासन में से सुकेशी नामक…

Read More →
प्यासा भूत

प्यासा भूत

गर्मियों के दिन थे। कुनाल पार्क में खेलने जाने के लिए तैयार हो रहा था। वह हाथ मुँह धोने के…

Read More →
जादू की छड़ी

जादू की छड़ी

सुबह-सुबह सचिन के कमरे से आते शोरशराबे से यात्रा से थकी हुई यशोदा की नींद खुल गई। कमरे में जाकर…

Read More →
जीवन चक्र (भाग-२)

जीवन चक्र (भाग-२)

पिछले अंक में आपने पढ़ा था – राजा साँगवान के साथ हुई अजीबो-गरीब घटना को बीते करीब बीस साल हो…

Read More →
महान चोर – चूहा

महान चोर – चूहा

सैरा ने नानी से पूछा, “हमें हर जानवर कुछ ना कुछ सिखाता है। लेकिन चूहा बस चोरी करना सिखाता है।…

Read More →
बाँटना सीखें

बाँटना सीखें

यह कहानी है इटली के वेनिस शहर की। वहाँ के एक कॉफी शॉप में एक दिन एक दूसरे शहर से…

Read More →
गाजर – एक श्रेष्ठ आहार

गाजर – एक श्रेष्ठ आहार

स्वस्थ, चुस्त और दुरुस्त रहने का चलन पूरे विश्व में तेज़ी पकड़ रहा है। सेहतमंद खाने पर जो शोध हुए…

Read More →
लिखने की कला

लिखने की कला

गीतिका के विद्यालय में, अभिभावक - अध्यापिका की बैठक थी। बच्चों की शैतानियों, कलाकारियों, सभी पर चर्चा चल रही थी।…

Read More →
कर्तव्यनिष्ठता

कर्तव्यनिष्ठता

ये बात गर्मियों की छुट्टियों की है। आकाश अपने स्कूल से दिल्ली घूमने गया था। उसके घनिष्ठ मित्र श्याम, हरीश…

Read More →
भिन्नता का समायोजन

भिन्नता का समायोजन

स्कूल में लंच ब्रेक हो गया था और नंदिनी की कक्षा के सभी छात्र अपना भोजन खा रहे थे। “तुम…

Read More →
ख़जाना – पौधों का रहस्य

ख़जाना – पौधों का रहस्य

नैनीताल के पास एक बहुत ही सुरम्य स्थान है, कैंची। पहाड़ों के सुंदर वातावरण से पूरित ये स्थान बहुत ही…

Read More →
कथकली

कथकली

सुनयना अपने ग्रीष्म अवकाश में अपनी मामी के यहाँ गयी थी। वह और उसकी ममेरी बहन अपर्णा एक दूसरे के…

Read More →
सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली राविभामा की

सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली राविभामा की

प्रातः काल होते ही राजा भोज के मन में देवताओं के सिंहासन पर बैठने की इच्छा और भी प्रबल हुई।…

Read More →
असली सांता क्लॉस

असली सांता क्लॉस

२५ दिसम्बर के साथ जाड़ो की छुट्टियां होती है। छुट्टियों से पहले बच्चों का एक मनोरंजक कार्यक्रम होता है। इस बार…

Read More →
जीवन चक्र – १

जीवन चक्र – १

एक छोटे से पहाड़ी राज्य 'साँग' का राजा साँगवान बाहर से देखने में जितना सुंदर और कोमल था, अंदर से…

Read More →
लाइ-डिटेक्टर

लाइ-डिटेक्टर

अजय और विजय की गर्मी की छुट्टियां शुरू हो गई थी। आठवीं व दसवीं में पढ़ने वाले दोनों भाई काफी समझदार…

Read More →
नया घर

नया घर

नन्ही परी के पापा का ट्रान्सफर होने वाला था। अभी तक वे लोग जहाँ रहते थे, वह शहर के बीच…

Read More →
खुशी विज्ञान

खुशी विज्ञान

वर्तमान समय में हर शहर में बहुत सारे संगठन होते हैं  -  पुरुष संगठन के साथ साथ, महिला-पुरुष संगठन जैसे…

Read More →
ईद-मुबारक

ईद-मुबारक

रौनक़ उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में अपने मम्मी-पापा के साथ रहता था। उसके पापा, जिनका नाम रज़ा था, चूड़ियों…

Read More →
भगवान के मित्र

भगवान के मित्र

रघु एक सात साल का छोटा बच्चा था। वह अपने अंधे माँ बाप के साथ एक छोटे से घर में…

Read More →
ऐसा भी होता है

ऐसा भी होता है

“आज क्या लिखा मॉम?” आख्या स्कूल बैग एक ओर रखते हुए बोली। “अच्छा, क्या रोज़ नयी कहानी लिखी जाती है…

Read More →
सुहाने सपने

सुहाने सपने

रात के नौ बजे थे। छटी कक्षा का राघव आने वाली परीक्षा की तैयारी कर रहा था। तभी कमरे में…

Read More →
गुरु छोटा, चेला बड़ा

गुरु छोटा, चेला बड़ा

कमल के घर एक नया नौकर रखा गया - मनोज। बेहद चुस्त और विभिन्न कार्यों का हुनरकार। छुट्टी वाले दिन…

Read More →
मेरा भारत महान

मेरा भारत महान

रूद्र हमेशा इसी बात पर अड़ा रहता था कि बड़ा होकर वह विदेश चला जाएगा और फिर वहीं बस जाएगा।…

Read More →
सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली लीलावती की

सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली लीलावती की

पांचवे दिन, पुतली लीलावती सिंहासन से प्रकट हुई और राजा भोज से बोली, “विराजने से पहले राजा विक्रमादित्य की निर्णय…

Read More →
जादुई जूते (मिशन ३)

जादुई जूते (मिशन ३)

वैंकू को चित्तौड़ की भूमि हमेशा आकर्षित करती थी। कभी राणा प्रताप के शौर्य और वीरता के किस्से, तो कभी…

Read More →
अच्छा इन्सान

अच्छा इन्सान

एक ६ साल का लड़का शुभम, अपनी ४ साल की छोटी बहन लीनी के साथ बाजार से गुजर रहा था।…

Read More →
उलट – पुलट

उलट – पुलट

“सुबह से खेल रहे हो! और कितना खेलोगे नीरज? थोड़ा सा कुछ पढ़ भी लो”। माँ ने नीरज से कहा,…

Read More →
यज्ञसेन

यज्ञसेन

सुंदर गढ़ का राजा वीरसेन बहुत दयालु और न्याय प्रिय था। उसकी तीन रानियाँ थीं - चंद्र प्रभा, कांता और…

Read More →
मेरी प्यारी गुड़िया

मेरी प्यारी गुड़िया

तीन साल की गोल-मटोल प्यारी सी बच्ची थी, चंदा। आज सुबह सुबह मम्मी पापा ने उसे एक बड़ी सी गुड़िया…

Read More →
नशे के सौदागर (भाग-२)

नशे के सौदागर (भाग-२)

पिछले अंक में आप ने पढ़ा था कि शहर में नशे की बढ़ती घटनाओं की वजह से नारकोटिक्स विभाग बहुत…

Read More →
दृष्टिकोण

दृष्टिकोण

आज श्रीमती विभा शर्मा के घर एक शानदार पार्टी का आयोजन किया गया था। उनका बेटा वैभव देश के प्रतिष्ठित…

Read More →
बड़े होकर क्या बनेंगे

बड़े होकर क्या बनेंगे

आज सारे बच्चे तन्मय के घर एकत्रित हुए थे। इस बार तन्मय का जन्मदिन रविवार को पड़ा, तो उसके मम्मी…

Read More →
गुरुद्वेव रवीन्द्रनाथ टैगोर

गुरुद्वेव रवीन्द्रनाथ टैगोर

रवीन्द्रनाथ टैगोर का जन्म ७ मई १८६१ में कोलकता में हुआ था। इनकी माँ का नाम शारदा देवी और पिता…

Read More →
रैफलिशिया – विश्व का सबसे बड़ा फूल

रैफलिशिया – विश्व का सबसे बड़ा फूल

“बच्चों! बताओ अब तक तुमने सबसे बड़ा फूल कौन सा देखा है?” अंकल जॉन ने पूछा, एक दिन जब वह…

Read More →
स्वामी विवेकानंद

स्वामी विवेकानंद

जब भारत के एक भिक्षु ने विश्व की धर्म संसद में “अमेरिका के बहनों और भाइयों” इस सम्बोधन के साथ…

Read More →
परवाह किसे है?

परवाह किसे है?

हम पेड़, अपनी संबन्धित श्रेणियों - छोटे, मँझले और बड़े की बढ़त को लेकर बहुत ही संवेदनशील हैं और सुंदरता…

Read More →
सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली कामकंदला की

सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली कामकंदला की

चौथे दिन राजा भोज आसन पर बैठने ही वाले थे कि पुतली कामकंदला प्रकट हुई और उनके सामने खड़े होकर…

Read More →
नन्हे दोस्त

नन्हे दोस्त

ढाई साल की नन्ही चिंकी बड़ी प्यारी बच्ची थी। वह अपने ममा-पापा और दादी-बाबा के साथ बड़ी खुश रहती थी।…

Read More →
मोरनी की अनोखी दुनिया

मोरनी की अनोखी दुनिया

नित्या आज अपने स्कूल की नयी स्कूल–कैप्टेन चुनी गयी थी। प्रिन्सिपल सर ने स्वयं पूरे स्कूल के सामने उद्घोषणा की…

Read More →
भुवन की समझदारी

भुवन की समझदारी

यह कहानी प्रेमचंद कि ‘ईदगाह’ पर आधारित है। भुवन एक छोटे से गाँव मे रहता था। वह अपनी माँ के…

Read More →
बेटी

बेटी

कमरे से निरंतर कराहने की आवाज़ें आ रही थी। धीरे–धीरे उनकी तीव्रता बढ़ती जा रही थी। कराहटों का असर रामदेवी…

Read More →
इंतजार का सबक

इंतजार का सबक

मीरा अपने बड़े भैया राजेश को बहुत प्यार करती थी और उनका कहना भी मानती थी। लेकिन उसे राजेश भैया…

Read More →
सेव का पेड़

सेव का पेड़

कबीर अपने मम्मी पापा के साथ शिमला में रहता था। उसके घर के बगीचे में एक बहुत बड़ा सेव का…

Read More →
शुभ-कामना

शुभ-कामना

अमन विद्यालय से आ कर टी.वी. देखने बैठ जाता - कार्टून, बच्चों के सीरियल, वगैरह। अगर कुछ भी खाना होता…

Read More →
लिंग भेद, विचार विमर्श

लिंग भेद, विचार विमर्श

ईश्वर ने धरती का निर्माण आरम्भ किया। धरती के अंग, पहाड़, नदियाँ, समुद्र आदि बनाए। सूर्य, चंद्र, तारे और साथ…

Read More →
नशे के सौदागर (भाग-१)

नशे के सौदागर (भाग-१)

देश के एक महत्वपूर्ण कस्बे के ख़ास चौराहे पर मेरा एक छोटा सा ढाबा था। यह कस्बा महत्वपूर्ण इसलिये था…

Read More →
रुपया रुपया

रुपया रुपया

कक्षा आठ ए में जब सामान्य ज्ञान के पीरियड में आनन्द सर आये तो वे बोले कि आज वे कुछ…

Read More →
कट्टु कलाकार

कट्टु कलाकार

मृदुल गर्मी और जाड़ों की छुट्टियों में अपने गाँव जाता था। उसे बहुत खुशी होती थी, क्योंकि उसके दोस्त वहां…

Read More →
मेला सूरज कुंड

मेला सूरज कुंड

हमारा देश भारत गावों का देश है। यहाँ प्रतिदिन कोई न कोई उत्सव, त्योहार होता है। प्राचीन समय में त्योहारों…

Read More →
बिना भित्ति के चित्र बनाना

बिना भित्ति के चित्र बनाना

संध्या का समय था। सभी लड़के-लड़कियाँ खेलने के लिए घर से निकल पड़े थे,  लेकिन दृष्टि नहीं निकली। उसकी सहेलियाँ…

Read More →
भोलू का सच

भोलू का सच

परीक्षा के दिन नज़दीक आ रहे थे और भोलू के प्राण ऊपर नीचे होना शुरू हो गए थे। यह उसकी…

Read More →
भगवान की भूमिका

भगवान की भूमिका

पार्क में किनारे गोल घेरे में चौड़ी पट्टी टहलने के लिए बनी थी। उसी के साथ किनारे फूल पौधे और…

Read More →
लोकत्रंत्र का प्रयोग

लोकत्रंत्र का प्रयोग

७०वें दशक की बात है। उस समय हर शहर में सरकारी विद्यालय सबसे उच्च कोटि के होते थे। बहुत बड़ी इमारत…

Read More →
पाठी बाबाजी का चमत्कार

पाठी बाबाजी का चमत्कार

परीक्षाएं नज़दीक आ रही थीं इसलिये मानसी ने पढ़ाई पर ज़ोर बढ़ा दिया था। आजकल वह ज़्यादातर समय कुछ पढ़ते-लिखते…

Read More →
पढ़ाई

पढ़ाई

मिनी और मनु पापा के पास लेटे थे और उनसे कहानी सुनाने का आग्रह कर रहे थे। बच्चों को कहानी…

Read More →
होली की इंद्रधनुषी ख़ुशियाँ

होली की इंद्रधनुषी ख़ुशियाँ

होली के समय में चारों तरफ रंग-बिरंगे रंगो की बरसात हो रही थी। मौसम को देखकर ऐसा लगा कि पशु-पक्षी…

Read More →
बड़ा ओहदा

बड़ा ओहदा

जाड़े की छुट्टियाँ शुरू हुई। आठ साल की जूही को घूमने जाना था। किसी कारण से कार्यक्रम रद्द हो गया। अब…

Read More →
नाज़ुक बातें

नाज़ुक बातें

इस समय मैं सिर्फ नौ महीने की हूँ और धूप में बिना किसी बचाव के अपनी नाज़ुक जड़ों पर खड़े…

Read More →
वसंत पंचमी

वसंत पंचमी

हमारे देश में वसंत पंचमी का उत्सव बड़े ही हर्ष और उल्लास के साथ माघ मास (फरवरी) के शुक्ल पक्ष…

Read More →