लौह पुरूष – सरदार वल्लभ भाई पटेल

लौह पुरूष – सरदार वल्लभ भाई पटेल

आरती सरदार वल्लभ भाई पटेल के बारे में जानना चाहती थी। उसने अपने पापा से उनके बारे में पूछा। एक…

Read More →
जीत-हार

जीत-हार

आओ हम सब कोई खेल खेले, जिसमें कुछ हारेंगे और कुछ जीतेंगे। ज़ोरदार जीत का जश्न मनाना, लेकिन हार पर…

Read More →
बचपन की दादागिरी से मिला सबक़

बचपन की दादागिरी से मिला सबक़

बच्चों आज मैं तुम्हें एक ऐसी बचपन की दादागिरी कहानी बताने जा रही हूँ जिससे मैने सीखा कि बिना मेहनत…

Read More →
आलोचनायें

आलोचनायें

कभी आलोचनायें भी कर देती है कमाल, जब किसी की कही हुयी चुभ जाती बात, और ये चुनौती लेते हम…

Read More →
तितली-रानी

तितली-रानी

सुंदर-सुंदर फूलों पर बैठी तितली, तभी चमक उठी बादल में बिजली, डर के इधर-उधर देख मचली, और वह पंख फैलाकर…

Read More →
अनोखी बसंत पंचमी

अनोखी बसंत पंचमी

नितिन बहुत ही शरारती एवं अपने आस-पास रहने वालों को बहुत तंग करता था। बच्चे ही नहीं, बड़े लोग भी…

Read More →
गोल-मटोल चंदा

गोल-मटोल चंदा

चंदा रूठा-रूठा सा आज, क्योंकि रहना है उसको गोल-मटोल, वह कहता यह बार-बार सूरज नहीं बदलता जब, तारें भी न…

Read More →
ऐतिहासिक बीकानेर की झलक – १

ऐतिहासिक बीकानेर की झलक – १

मेरे पति को किसी ज़रूरी काम से बीकानेर लगभग पंद्रह दिन के लिये जाना था। स्कूल की छुट्टियाँ न होने…

Read More →
ऐतिहासिक बीकानेर की झलक – २

ऐतिहासिक बीकानेर की झलक – २

पिछले अंक में आप सभी ने जयपुर से बीकानेर तक की यात्रा का आनन्द लिया, उसके बाद लक्ष्मीनाथ मंदिर के…

Read More →
ऐतिहासिक बीकानेर की झलक – ३

ऐतिहासिक बीकानेर की झलक – ३

हमने अब तक बीकानेर में लक्ष्मीनाथ, करनी माता मंदिर एवं जूनागढ़ क़िला और संग्रहालय देखा। इसके बाद गजनेर पैलेस की…

Read More →
योवा-तपु और ज़ीरो फ़ेस्टीवल

योवा-तपु और ज़ीरो फ़ेस्टीवल

भारत में हर साल ज़ीरो फ़ेस्टीवल में संगीत की कई रचनाएँ देखने को मिलती हैं। इस साल योवा-तपु को भाग लेने…

Read More →
लद्दाख सुहावना और हेमिस त्यौहार

लद्दाख सुहावना और हेमिस त्यौहार

राघव जैसे ही लेह के हवाई अड्डे पर उतरा, वहाँ पहाड़ों की चोटी पर जमी हुई बर्फ़ देखते ही उसे…

Read More →
अदिति की गिर उद्यान यात्रा

अदिति की गिर उद्यान यात्रा

अदिति अपने मम्मी-पापा के साथ गिर उद्यान देखने गयी। यह उद्यान गुजरात में स्थित एवं शेरों के लिये प्रसिद्ध है।…

Read More →
मातृभाषा का महत्व

मातृभाषा का महत्व

भावेश को अपनी मातृभाषा का महत्व देर से समझ आया, पर आ गया। भावेश गुजरात का रहने वाला था। दो…

Read More →
बोहाग बिहु की बहार

बोहाग बिहु की बहार

इस साल मेरे स्कूल के बच्चों को असम ले जाया गया। अप्रैल में आने की वजह से बिहू त्योहार देखने…

Read More →
विकलांग नहीं, हमारे जैसे हो तुम

विकलांग नहीं, हमारे जैसे हो तुम

न है भिन्न अंग तुम्हारे, न हो अलग तुम किसी से, मेरे जैसा ही ख़ून दौड़े जिस्म में तुम्हारे वही…

Read More →
सलौनी और हिमा दास की कहानी

सलौनी और हिमा दास की कहानी

हिमा दास की कहानी सुनकर सलोनी को अच्छा खेलने की प्रेरणा मिलती है। सलौनी को फ़ुटबॉल खेलना बहुत पसंद था।…

Read More →
जब मैं हनुमान बन जाऊँगा

जब मैं हनुमान बन जाऊँगा

मैं अब हनुमान बनूँगा, मुकुट सिर पर पहनूँगा, गदा साथ लेकर चलूँगा, और सबसे ताक़तवर बन जाऊँगा, फिर संजीवनी पर्वत…

Read More →
शरारत करने का नतीजा

शरारत करने का नतीजा

मुकुल ने जाना कि किसी के साथ शरारत करने का नतीजा बुरा होता है। मुकुल बहुत ही शरारती और हमेशा…

Read More →
परी की छड़ी

परी की छड़ी

कल सपने में वह मेरे आयी, जब उसने अपनी छड़ी घुमायी, चारों तरफ ख़ुशहाली सी छायी, दुनिया बदली-बदली सी लग…

Read More →
चित्रांगदा और जलपरी रूही

चित्रांगदा और जलपरी रूही

चित्रांगदा एक नयी दोस्त बनती है, जलपरी रूही, जो उसकी मदद करती है। चित्रांगदा किशनगढ़ के राजा विक्रम सिंह की…

Read More →
महान गणितज्ञ – रामानुजन

महान गणितज्ञ – रामानुजन

अद्भुत प्रतिभाशाली व्यक्ति विशेष, सौभ्य व्यवहार के गुणों से भरे हुये, आँखों की चमक से कुशाग्रता थी झलकती, ग़रीबी को…

Read More →
जब मैं कार बनाऊँगा

जब मैं कार बनाऊँगा

मैं जब बड़ा हो जाऊँगा, एक ऐसी कार बनाऊँगा, सड़क पर वह इतनी तेज़ चलेगी, सबसे आगे निकल जायेगी, पानी…

Read More →
पतंग

पतंग

First published in August 2016 लटक-झटक, मटक-मटक, चली चली रे चली, मैं उड़ चली, हवा के साथ-साथ मैं बह चली,…

Read More →
हाथी का घमण्ड

हाथी का घमण्ड

गज्जू हाथी का घमंड उसे मुसीबत में डाल देता है।  First published in July 2017 नंदनवन में गज्जू नाम का…

Read More →
अपनी संस्कृति

अपनी संस्कृति

अब बदल गया है सब कुछ, छोटी-छोटी दुकाने हो गये है मॉल, पार्क लगातार हो रहे है कम, किक्रेट बल्ले…

Read More →
विश्व धरोहर ताजमहल

विश्व धरोहर ताजमहल

कृति आगरा में ताज महल में शाहजहाँ से मिलती है। वे उसे अपना दुख बताते हैं। कृति आगरा का ताजमहल…

Read More →
बनाये शरीर रोगमुक्त

बनाये शरीर रोगमुक्त

बनाये रोगमुक्त अपना शरीर, कुछ बातों का है करना पालन, अपनाये हम सब स्वस्थ जीवन, शारीरिक व्यायाम करें हर रोज़,…

Read More →
सोशल मीडिया

सोशल मीडिया

सोशल मीडिया की छायी है चारों तरफ लहर, इसके आने से अब हम सभी हो गये है व्यस्त, ज़माने की…

Read More →
आइसक्रीम

आइसक्रीम

First published in July 2016 आइसक्रीम का मौसम आया, हम सब को इसने ललचाया, मुन्ना दादी पास भागा आया, पैसे…

Read More →
अनोखा टीला – लोगों की मदद करना

अनोखा टीला – लोगों की मदद करना

दारा के भरी-भरकम होने से लोगों की मदद हो जाती है। दारा बहुत ही भारी-भरकम और लम्बा था, वह जब…

Read More →
सूर्य की ऊर्जा

सूर्य की ऊर्जा

पवन ने सूर्य की ऊर्जा के लाभों के बारे में जाना। पवन के मम्मी-पापा को बहुत बुरा लगता कि वह…

Read More →
एक अदभुत सी यात्रा

एक अदभुत सी यात्रा

हमारी लेखक को अपने बचपन की एक अद्भुत सी यात्रा आज भी याद है।  First published in March 2016 यह…

Read More →
रेलगाड़ी

रेलगाड़ी

रेलगाड़ी छुक छुक करती जाती, हमको सैर सपाटा करवाती, जगह जगह के नज़ारे दिखाती, बस आगे चलती जाती,बढ़ती जाती। राजस्थान…

Read More →
बच्चे होते आँखों के तारे

बच्चे होते आँखों के तारे

छोटे हुये तो क्या हुआ, सबकी आँखों के हैं तारे, दादी, दादी, नाना और नानी के हम सब है दुलारे,…

Read More →
उत्साह के कदम

उत्साह के कदम

उत्साह के साथ तू काम कर, असफलता से न कभी भी डर, जग में रह कर अपना नाम कर, डटा…

Read More →
रात के समय पेड़ों में बदलाव

रात के समय पेड़ों में बदलाव

अरिहंत ने जाना पेड़ों का राज़।  अरिहंत रात में जब भी पेड़ों के पास जाता, उसके मम्मी-पापा उसे यह कह…

Read More →
आलस है सबसे बड़ा शत्रु

आलस है सबसे बड़ा शत्रु

शिष्य ने सीखा कि आलस से कुछ नहीं मिलता।  पुराने समय में स्कूल की जगह गुरूकुल होते थे, जहाँ पर…

Read More →
बदलता समय

बदलता समय

समय का पहिया आगे बढ़ता जाये, हमको भी साथ में खींच कर लेता जाये, हर पल कुछ न कुछ बदलाव…

Read More →
पुराने ज़माने की प्यारी दादी

पुराने ज़माने की प्यारी दादी

गटूट की दादी उसे जल्दी उठने को कहती थी। जब वह नहीं माना, तो उसकी दादी ने उसे अपने तरीके…

Read More →
ढोंगी बाबा

ढोंगी बाबा

सुमेधा और दिव्या बहुत अच्छी सहेलियाँ थी। दोनो को एक दूसरे के साथ रहना और खेलना बहुत पसंद था। परीक्षा…

Read More →
नया साल आ ही गया

नया साल आ ही गया

जगमगाता नया साल फिर से आ ही गया, अपने साथ अच्छे संदेश लेकर भी आया, पिछले साल की मीठी यादों…

Read More →
गणतंत्र दिवस

गणतंत्र दिवस

सभी भारतवासियों का रखकर ध्यान बनाया गया इसी दिन अपना संविधान, तभी इस ख़ुशी में भारतवर्ष मनाये यह त्यौहार, अमर…

Read More →
किशन की सूझ-बूझ

किशन की सूझ-बूझ

एक बहुत ग़रीब किसान किशन अपने परिवार के साथ छोटे से गाँव में रहता था। रात-दिन मेहनत करके किसी तरह…

Read More →
योग की शक्ति

योग की शक्ति

First published in November 2016 edition आओ हम सब मिलकर करे अभ्यास योग का, इससे जीवन बने स्वस्थ और रोग मिटे…

Read More →
डाकिया

डाकिया

First published in February 2016 डाकिया आया, डाकिया आया, खाकी कपड़े में साईकिल पर आया, ढेर सारे ख़तों को अपने…

Read More →
अलबेला फ़ैशन-शो

अलबेला फ़ैशन-शो

चंचलवन में फ़ैशन-शो की तैयारियाँ चल रही थी। सभी अपने कपड़े जग्गू भेड़िए से सिलवाने में लगे थे। बड़की हथिनी…

Read More →
मुझे कवियित्री बनना है

मुझे कवियित्री बनना है

माँ! मुझे कवियित्री बनना है, शब्दों में रस भरना है, रस, अलंकार, छंद से अपनी बातों को सजाना है, सुंदर…

Read More →
कठपुतलियों का खेल निराला

कठपुतलियों का खेल निराला

शक्ति के पापा कठपुतलियों को नचाने का काम करते थे। उसके घर में यह काम बहुत पुराने समय से चला…

Read More →
उभरते खिलाड़ी

उभरते खिलाड़ी

मंजू आंटी और मम्मी बहुत अच्छी सहेलियाँ हैं। उनकी बेटी नेहा और मैं साथ में ही पढ़ते है। मैं जब…

Read More →
शतरंज

शतरंज

शतरंज की मुहरें होंगी और चलें अपनी अपनी, काले सफ़ेद दो रंगो से बना है खेल ये दिमाग़ी, राजा, रानी…

Read More →
प्राचीन खेल पतंगबाज़ी

प्राचीन खेल पतंगबाज़ी

भारत में लोगों को पतंग का बहुत शौक़ है। हमारे देश के साथ-साथ यह शौक चीन, कोरिया और थाइलैंड सहित…

Read More →
गोनू की दीवाली स्वच्छता के साथ

गोनू की दीवाली स्वच्छता के साथ

गोनू दीवाली की तैयारी बहुत ज़ोरों-शोरों से कर रहा था। अभी दीवाली को आने में पूरे दस दिन बाक़ी थे…

Read More →
राष्ट्रपिता प्यारे बापू

राष्ट्रपिता प्यारे बापू

बापू मेरे प्यारे बापू, बहुत याद आते हो बापू। सादा जीवन उच्च विचार को आपने अपनाया, जातिवाद रंगभेद के ख़िलाफ़…

Read More →
मुहर्रम की कहानी

मुहर्रम की कहानी

वीरेन अपनी घर की बॉलकनी में खड़ा था। तभी उसके कानों में लोगों की चीख़ने की आवाज़ आयी। सभी अपने…

Read More →
संतुलित आहार

संतुलित आहार

गोलू खाना खाने का बहुत शौक़ीन था। लेकिन वह फल, दाल, रोटी और सब्ज़ियों को कभी पसंद नही करता था।…

Read More →
तिरंगा

तिरंगा

मेरा तिरंगा कितना प्यारा, तीन रंगो से यह भरा हुआ, सबसे ऊपर रंग केसरिया, साहस, शक्ति को यह समझाता, इसके…

Read More →
रक्षाबंधन

रक्षाबंधन

बहुत देर से मैं यहाँ बैठी, देखो कितनी सुंदर राखी लायी, बढ़ी जंचेगी तुम्हारी कलाई, और मीठा भी पसंद का…

Read More →
मयूरा की अलौकिक शक्ति

मयूरा की अलौकिक शक्ति

मयूरा के मम्मी-पापा दोनों अपने काम में व्यस्त रहते थे, इसलिये उसे सब काम अपने आप करना पड़ता था। वह…

Read More →
रसीला आम

रसीला आम

पूरी सर्दी बीत गयी, इसका इंतज़ार करते करते, मुँह में पानी आ गया, पेड़ों पर लगे बौर देखकर, हरे-हरे छोटे…

Read More →
ईद का जश्न

ईद का जश्न

इस बार फिर से ईद आयेगी, ख़ुशियाँ ही ख़ुशियाँ छायेगी, मेल-मिलन होगा जमकर, चेहरे खिल-खिल जायेंगे, मीठी सिवाईयाँ खाने का…

Read More →
ईद-मुबारक

ईद-मुबारक

रौनक़ उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में अपने मम्मी-पापा के साथ रहता था। उसके पापा, जिनका नाम रज़ा था, चूड़ियों…

Read More →
समुद्र की दुनिया

समुद्र की दुनिया

आओ दिखाये तुम्हें समुद्र की दुनिया, जहाँ शांत हर तरफ है फैला हुआ, इसकी लहरें आगे आगे चलती जाती, कभी…

Read More →
महात्मा बुद्ध

महात्मा बुद्ध

मनाये जन्मदिन गौतम बुद्ध का, शुद्धोधन और मायादेवी जिनके माता पिता, लुम्बिनी, नेपाल में जन्म लिया, ज्ञान का प्रसार आपने…

Read More →
गुरुद्वेव रवीन्द्रनाथ टैगोर

गुरुद्वेव रवीन्द्रनाथ टैगोर

रवीन्द्रनाथ टैगोर का जन्म ७ मई १८६१ में कोलकता में हुआ था। इनकी माँ का नाम शारदा देवी और पिता…

Read More →
पक्षी की व्यथा

पक्षी की व्यथा

हम पक्षी उड़ने वाले हवा में, हमको उड़ने दो, पिंजरों में बंद करके, हमें अपनो से मत दूर करो। सोने…

Read More →
सेव का पेड़

सेव का पेड़

कबीर अपने मम्मी पापा के साथ शिमला में रहता था। उसके घर के बगीचे में एक बहुत बड़ा सेव का…

Read More →
होली का हल्ला

होली का हल्ला

होली का हल्ला गुल्ला, मचा हर गली मुहल्ला, मचला हुआ है बच्चा बच्चा, हर कोई इसके रंग में डूबा, रंगबिरंगी…

Read More →
गरमी की छुट्टी

गरमी की छुट्टी

फिर से गरमी की छुट्टियाँ आयेंगी, नानी के घर जाने की तैयारी होगी, वहाँ लाड़ प्यार खूब जम कर होगा,…

Read More →
होली की इंद्रधनुषी ख़ुशियाँ

होली की इंद्रधनुषी ख़ुशियाँ

होली के समय में चारों तरफ रंग-बिरंगे रंगो की बरसात हो रही थी। मौसम को देखकर ऐसा लगा कि पशु-पक्षी…

Read More →
परेशानी का अंत

परेशानी का अंत

फ़रवरी का महीना था, चारों तरफ पीले-पीले फूल और वातावरण में ख़ुशनुमा माहौल था। ऐसा लग रहा था कि धरती…

Read More →
बसंत पंचमी

बसंत पंचमी

 आओ मनाये बसंत पंचमी, करे पूजा सरस्वती माँ की, विद्या का वर देने वाली, हमारे गुणों को बढ़ाने वाली, श्वेत…

Read More →
फ़र फ़र फ़रवरी आया

फ़र फ़र फ़रवरी आया

रोको रोको इसको रोको, यह तो उड़ता जाये, गरमी को न्योता दे कर सर्दी खूब भगाये, इधर उधर बस पीले…

Read More →
गणतंत्र दिवस और वीरता पुरस्कार

गणतंत्र दिवस और वीरता पुरस्कार

आज हम आपको वीरता और साहस के लिये मिलने वाले पुरस्कार के बारे में बताते है। यह पुरस्कार ६ से…

Read More →
दिल्ली की २६ जनवरी परेड

दिल्ली की २६ जनवरी परेड

नकुल का दोस्त साहिल उससे पूछता है, “कल तुम २६ जनवरी को स्कूल क्यों नही आये थे"? फिर नकुल उसे…

Read More →
Republic Day And National Bravery Awards

Republic Day and National Bravery Awards

Today we will tell you about the National Bravery Awards given for bravery and courage. This award is given to…

Read More →
विजय दिवस

विजय दिवस

विजय दिवस को मेरा प्रणाम, आपके सामने लाया हूँ पैग़ाम, कहना तो बहुत कुछ चाहता हूँ, पर वीरों की यादों…

Read More →
जाति-पाँति के बंधन

जाति-पाँति के बंधन

डाजीगाँव में सभी तरह की जातियाँ रहती थी। वहाँ के लोग कुछ ज़्यादा ही संकीर्ण विचारों के थे, जातियों में…

Read More →
अगर मैं स्कूल प्रिंसिपल होता

अगर मैं स्कूल प्रिंसिपल होता

अगर मैं स्कूल प्रिंसिपल होता तो चारो तरफ़ बच्चों का ही राज होता, स्कूल में ही वाटर पार्क बनवाता, हर…

Read More →
ओनम

ओनम

महाबली महाबली, आपके आने की ख़ुशी गूँज उठी, सर्प नौकाओं की दौड़ वल्लम कलि, नदियों में हो चली, अब फ़सलें…

Read More →
बहता पानी

बहता पानी

कल-कल, छल-छल बहता जाता, कभी न रूकता, कभी न थकता, उज्जवल उजला सा बस चलता जाता, निर्मल नीर आगे ही…

Read More →
मोटूराम की भूख

मोटूराम की भूख

मोटूराम को भूख लगी, तो खा लिये आम, जल्दी से बताओ, कितने खा लिये आम? एक, दो, तीन, चार, पाँच,…

Read More →
बंदर

बंदर

चले बंदर-बंदरिया नाच दिखाने, झट से बंदर बना दूल्हा, सिर पर बाँधा उसने सेहरा, बंदरिया को बनना पड़ा दुल्हनिया। घुँघरू…

Read More →
कोल्हू का बैल

कोल्हू का बैल

अमित अपनी छुट्टियों में गाँव जाने के लिये बहुत उत्साहित और दादाजी से मिलने के लिये बैचेन रहता है। वह अपने मम्मी…

Read More →
सूरज

सूरज

भोर हो गयी अब तो आ जा, अपनी किरणों से जग चमका जा, खिले फूलों से आँगन सजा जा, चिड़ियों…

Read More →
बैंगन और मिर्ची की लड़ाई

बैंगन और मिर्ची की लड़ाई

सब्ज़ियों की सभा में, बैंगन मिर्ची की हुई लड़ाई , बैंगन बोला, “कभी तुमने अपना वज़न है तोला? मै भारी…

Read More →
हमारी संस्कृति

हमारी संस्कृति

सुबह जब सैर पर निकला, तो मेरा सिर झुक गया था, रास्ते में पड़ने वाले गुरूद्वारा, मंदिर  और मस्जिद में।…

Read More →
चमत्कारी जिन्न

चमत्कारी जिन्न

अजीत का परिवार बहुत ही ग़रीब था। अजीत की उम्र नौ साल की होने पर भी वह अभी तक स्कूल…

Read More →
वसंत

वसंत

सबका प्यारा वसंत आया, रंग-बिरंगी तितलियाँ लाया, फूलो ने आँगन महकाया, आया आया वसंत आया, कोयल ने सुर फैलाया, भौरों…

Read More →
दादाजी का चाय का प्याला

दादाजी का चाय का प्याला

चाय से भरा दादाजी का प्याला , सुबह सुबह की दादाजी की चाय, अदरक, इलायची की कड़क चाय, सुड़क-सुड़क की…

Read More →
आतंक को जवाब

आतंक को जवाब

आज फिर बारूदों के गोले और बंदूक़ों की आवाज़ आयी। हम सब हैरान और बेज़ुबान थे, ये क्या हुआ फिर…

Read More →
चंदा मामा

चंदा मामा

चंदा मामा आ जाना, चाँदनी रात दिखा जाना, हमको नींद दिला जाना, मीठे सपनें दिखा जाना। दुनिया की सैर करा…

Read More →
मैं मतवाली चुलबुली चंचल

मैं मतवाली चुलबुली चंचल

मैं चुलबुली,चंचल,मतवाली,मनचली सी मत बाँधो मुझे,मत बाँधो मुझे इन दुनिया के बंधनों मे, मैं जी न सकूँगी,मैं जी न सकूँगी…

Read More →
दिवाली की धूम

दिवाली की धूम

जगमग दिवाली आयी रे आयी, पटाखों का धूम धड़ाका लायी, चारों तरफ़ उजाला लेकर आयी, हम सभी में ख़ुशियों को…

Read More →
मिट्टी का दीया

मिट्टी का दीया

मिट्टी का दीया हूँ, तो फिर क्या हुआ? रोशनी को तो मैंने भी सभी को दिया, बदलते वक़्त की बदलती…

Read More →
परोपकार

परोपकार

एक आम के पेड़ पर दो घोंसले थे। एक तोते का और दूसरा चिड़िया का। दोनो में ही उनके छोटे-छोटे…

Read More →
आत्मविश्वास

आत्मविश्वास

कभी गिरने न देना, झुकने न देना, सम्मान के लिये हमेशा खड़े रहना। तूफ़ान से घबरा के रूक न जाना,…

Read More →
Loading...