हमारा पुस्तकालय

हमारा पुस्तकालय

गर्मी की छुट्टियों में बच्चों ने मिलकर एक पुस्तकालय बनाया। गर्मी की छुट्टियाँ शुरू हुए एक सप्ताह हो चला है।…

Read More →
सच्ची खुशी

सच्ची खुशी

मिनी ने दीपावली मनाने की सच्ची खुशी जानी। दीपावली का अगला दिन था। मिनी आँख मलती हुई उठी और बोली,…

Read More →
बोलने वाली चिड़िया

बोलने वाली चिड़िया

ईशिता ने बोलने वाली चिड़िया की गलती से अपने आप पर विश्वास करना सीखा। आज ईशिता बहुत उदास थी। उसका…

Read More →
छोटा सा कदम

छोटा सा कदम

आशीष और समिधा का छोटा सा कदम नन्हें बच्चों को सुरक्षित और खुश रखता है। स्कूल की छुट्टी हो चुकी…

Read More →
महत्व

महत्व

मयंक के दादाजी ने उसे अपनी चीजों का संभाल कर रखने का महत्व समझाया। सुनील अपने बेटे मयंक को लेकर…

Read More →
गौरैया, प्यारी चिड़िया

गौरैया, प्यारी चिड़िया

गौरैया को बचाना हम सभी के हाथ में है। देखिये इन बच्चों ने कैसे एक छोटी सी शुरुआत करी। उषा…

Read More →
मीनाक्षी मंदिर

मीनाक्षी मंदिर

मीनाक्षी को बहुत खुशी हुई कि उसके नाम का एक प्रसिद्ध मंदिर - मीनाक्षी मंदिर - भी है।  First published…

Read More →
हाउसबोट

हाउसबोट

अपूर्व ने जाना कि भारत में हाउसबोट कई जगह पायी जाती है।  “लगी शर्त!” “हाँ लगी” “कितने कितने की ?”…

Read More →
छोनु एम्परर पेंगुइन

छोनु एम्परर पेंगुइन

अंटार्कटिका के अनोखे पक्षी पेंगुइनों में एम्परर पेंगुइन ही इतना खास है कि इसे पेंगुइनों का हीरो कहा जा सकता…

Read More →
सॉरी कहना

सॉरी कहना

आशा की मम्मी ने बताया की दोस्तों को सॉरी कहना ज़रूरी है।  नन्ही आयशा जबसे स्कूल से लौटी थी, उदास…

Read More →
प्लास्टिक मैन

प्लास्टिक मैन

श्री राजगोपालन वासुदेवन को प्लास्टिक मन कह सकते हैं क्यूंकी उन्होने प्लास्टिक का उपयोग ढूंडा। कृष्णा जी ने सामने से…

Read More →
स्कूल ट्रिप

स्कूल ट्रिप

जब बच्चे स्कूल ट्रिप पर जाने लगे, तो उनके प्रिंसिपल ने उन्हें सावधान रहने के लिए एक कहानी सुनाई। आज…

Read More →
परी

परी

परियों की कहानी पढ़ते पढ़ते सो जाती जागती तो उनकी कल्पना में खो जाती माँ जब ख़ुशी से होती भरी…

Read More →
दुनिया बदल रही है

दुनिया बदल रही है

देखिये आस पास, आपकी दुनिया बदल रही है। आजकल पुरुष और महिला एक दूसरे के समान हैं, न कोई बड़ा,…

Read More →
जानवरों के साथी हाथी

जानवरों के साथी हाथी

नन्हें आरव के दादाजी ने उसे जानवरों के साथी हाथी के बारे में बताया। नन्हा अरनव कल ही अपने स्कूल…

Read More →
दस रुपये का लेन-देन

दस रुपये का लेन-देन

दादाजी ने अर्णव को सिखाया की पैसे का कोई भी लेन-देन लिखित में होना ज़रूरी है। दादा जी को बरसों…

Read More →
बालक शंकर

बालक शंकर

आइये, आठवीं सदी में एक गरीब ब्राह्मण परिवार में पैदा हुए बालक शंकर की कहानी सुनिए। आज एक अक्टूबर है।…

Read More →
छोटा कद

छोटा कद

सजल ने जान की छोटा कद किसी की महान काम करने से नहीं रोक सकता। “मधु मैम दूसरी कक्षा का…

Read More →
मेरे जैसा कोई नहीं

मेरे जैसा कोई नहीं

First published in September 2016 कल से गर्मी की छुट्टियाँ होने वाली थीं। कनिका बहुत उत्साहित थी। उसने इन गर्मी…

Read More →
शैतान मोनू

शैतान मोनू

पाँच वर्ष के मोनू की शैतानियाँ दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रहीं थीं। वह घर में दादी, बाबा, मम्मी, पापा सभी…

Read More →
लाडला

लाडला

गोलू का नया दोस्त पिंटू अपने बड़ों का लाडला था, इसलिए उनका आदर करना नहीं जानता था।  First published in…

Read More →
बुरी बात

बुरी बात

शालू ने सीखा कि किसी को कष्ट देकर मजा करना बुरी बात है।  First published in October 2016 नन्हे शालू…

Read More →
नन्ही गुड़िया

नन्ही गुड़िया

नन्ही सी एक गुड़िया रानी कल तक गोद लिए थीं नानी सुनती थी नित नयी कहानी हो गयी है अब…

Read More →
ताड़पत्र पर हमारा भाग्य

ताड़पत्र पर हमारा भाग्य

एक ज्योतिषी ने हमें ताड़पत्र पर से हमारा भाग्य बताने की कोशिश करी।  ज्योतिष विद्या एक अनोखी विद्या है, यह…

Read More →
पीसा की मीनार

पीसा की मीनार

प्रियांश को पिसा की मीनार देखने का बहुत मन था। पर उसके पापा ने उसे पहले भारत की अद्भुत चीज़ें…

Read More →
यह झूठ नहीं है

यह झूठ नहीं है

जो झूठ किसी अनाथ को एक घर दिला दे, वो झूठ नहीं होता। आप क्या सोचते हैं? आकाश और वसुधा…

Read More →
शिवलिंग और दूध

शिवलिंग और दूध

अनुभव और उसके दोस्तों ने शिवलिंग और दूध की धार्मिक परंपरा बनाए रखे, अनाथालय के बच्चों तक वो दूध पहुंचाया।…

Read More →
रावण

रावण

First published in October 2016 बच्चों में आपस में बहस छिड़ गयी की रावण के दस सिर थे या नहीं। अग्रवाल…

Read More →
मैं झाँसी की रानी

मैं झाँसी की रानी

सीया झाँसी की रानी की कहानी सुनकर प्रेरित होती है। नन्ही सिया को अपने स्कूल में फैंसी ड्रैस प्रतियोगिता में…

Read More →
धूप छाँव – खेजड़ी का पेड़

धूप छाँव – खेजड़ी का पेड़

विश्नोई समुदाय को खेजड़ी का पेड़ बहुत महत्वपूर्ण है। पढ़िये उनकी कहानी। धूप छाँव नाम का यह पार्क शहर के…

Read More →
सम्मान की रोटी की कीमत

सम्मान की रोटी की कीमत

बाबुराम जी सालों से सम्मान की रोटी के लिए तरस गए थे। उन्हे यह सम्मान सुमित और उसकी पत्नी से…

Read More →
उनके जैसा बनना है – प्रेरणा लेना

उनके जैसा बनना है – प्रेरणा लेना

अभिनव श्री कल्याणसुन्दरम जी के जीवन से प्रेरणा लेना चाहता था। मगर उसे समझ नहीं आया कि वो उनकी किन-किन…

Read More →
कोयल

कोयल

कुहू कुहू कर गाती फिरती ढूँढो तो भी नज़र न आती रंग से तो कोयल है काली बोली इसकी बड़ी…

Read More →
अधूरे सपने

अधूरे सपने

बरखा ने घर की जिम्मेदारियाँ संभालने में अपने अधूरे सपने पूरे नहीं किए। उनके बेटे और बहू ने उनकी इच्छा…

Read More →
जीत किसकी

जीत किसकी

अमित ने सीखा कि जीत सिर्फ गाड़ी तेज़ दौड़ाने से नहीं होती।  First published in March 2018 “पापा तेज... और…

Read More →
अद्भुत है भारत

अद्भुत है भारत

मॉडर्न स्कूल के विद्यार्थी प्रतिदिन भारत के बारे में नयी जानकारी सुनाते थे।  मॉडर्न हाई स्कूल में प्रिंसिपल सर ने…

Read More →
जन्मदिन

जन्मदिन

मान्यता की मम्मी ने जन्मदिन से जुड़े कुछ मिथ्य के बारे में चर्चा करी।  १० साल की मान्यता आज बहुत…

Read More →
पहल – खाद बनाओ

पहल – खाद बनाओ

अभिनव, पारस, अमित और सुमित ने अपनी छुट्टियों में कॉलोनी वालों को खाद बनाया सिखाया।  अभिनव, पारस, अमित और सुमित एक…

Read More →
कंप्यूटर

कंप्यूटर

अक्षर ने अपने गाँव से आए दादी बाबा को कंप्यूटर के खूब सारे उपयोग दिखाये।  अक्षर के दादी बाबा गाँव…

Read More →
रंग न होते तो

रंग न होते तो

ये रंग न होते तो दुनिया कितनी बेरंगी हो जाती, न होते सपने सतरंगी नींद काली सफेद रह जाती, सुन्दर…

Read More →
मनमानी

मनमानी

आदित्य बिस्तर पर उल्टा लेटा हुआ सुबक-सुबक कर रो रहा था। तभी दादा जी शाम की सैर करने अपने कमरे…

Read More →
आप आयेंगे न – २

आप आयेंगे न – २

अब तक आपने पढ़ा कि राहुल और पूजा ने फिल्मों से प्रेरित होकर, बिना अपने माँ-बाप को बताए कचहरी में…

Read More →
दोस्ती

दोस्ती

‘सुखमय कॉलोनी’ एक सुन्दर एवं हरी भरी कॉलोनी थी। इसकी विशेषता यह थी कि इसमें बहुत सारे मोर रहते थे।…

Read More →
कृष्ण कन्हैया

कृष्ण कन्हैया

“तुम्हारे तो भगवान भी लड़कियों को छेड़ा करते थे”, जूली ने कहा तो किसी ग्रुप में था, किंतु पास से…

Read More →
पक्षियों का निराला संसार

पक्षियों का निराला संसार

“आज मेरे मामा जी आ रहे हैं!” खुशी से चहकते हुए मनीष ने राहुल को बताया। राहुल उसका पड़ौसी था…

Read More →
मीठी

मीठी

First published in November 2016 पाँच वर्ष की मीठी बड़ी नटखट और चंचल थी। एक दिन मम्मी ने देखा कि…

Read More →
गाय हमारी माता है

गाय हमारी माता है

First published in November 2016 राहुल, अभय और शशांक, तीनों अपने अपने घर से दूर, शांतिनगर में रहकर एक बड़ी…

Read More →
सर्दी

सर्दी

खूब सारी छुट्टियाँ लेकर आती सर्दी मुझको खूब है भाती स्वेटर हमको खूब रिझाते रजाई कम्बल पास बुलाते धूप में…

Read More →
आप आयेंगे न – १

आप आयेंगे न – १

ये कुछ वर्ष पूर्व की कहानी है जब मोबाइल फ़ोन, इंटरनेट आदि ने हमारी जिंदगी में पदार्पण नहीं किया था।…

Read More →
स्वर्ग नर्क

स्वर्ग नर्क

आज नर्क के अन्दर एक बवाल-सा मचा हुआ था। चारों ओर धरना प्रदर्शन, नारेबाजी, शोर और अराजकता का बोलबाला था।…

Read More →
जय जवान जय किसान

जय जवान जय किसान

शास्त्री जी का नारा है हम सबको प्यारा इसको समझना है आसान जय जवान जय किसान जो है अन्न उगाता…

Read More →
नशा

नशा

नवीं कक्षा का प्रतिभावान बच्चा सुबोध छुट्टी के समय स्कूल से निकला तो अगले ही मोड़ पर उसके कुछ सहपाठियों…

Read More →
मिट्ठू

मिट्ठू

“भैया मिट्ठू, भैया मिट्ठू!” ज़ोर-ज़ोर से भाई को पुकारती हुई टीना पार्क के उस कॉर्नर पर आयी, जहाँ उसका भाई…

Read More →
हे भगवान

हे भगवान

माता पिता ने जाने क्या सोचकर रखा था नाम 'अटल', पर अटल ने तो वास्तव में अपना नाम सच कर…

Read More →
खिलौने

खिलौने

नन्दिता गाड़ी में पीछे की सीट पर बैठी कुछ सोच रही थीं कि अचानक एक दृश्य ने उनका ध्यान आकर्षित…

Read More →
झाँसी की रानी

झाँसी की रानी

आज़ादी की थीं दीवानी लक्ष्मीबाई, झाँसी की रानी देशप्रेम में डूबी यह कहानी बच्चे बच्चे को है सिखानी वे हमारा…

Read More →
मुहावरे

मुहावरे

नर्सरी में पढ़ने वाले शिवम और उसके बड़े भाई परम को मम्मी होमवर्क करा रही थीं। शिवम बोला, “मैंने तो…

Read More →
संस्कार

संस्कार

रॉकी अब बूढ़ा हो चुका था। वह चार वर्ष के नन्हे मोनू के बुलाने पर बस आँखें खोल देता। कभी…

Read More →
रानी

रानी

माथे पर छोटी सी लाल बिंदी, माँग में सिन्दूर भरे, एक सादी सी गुलाबी साड़ी में लिपटी जो लड़की मेरे…

Read More →
त्यौहार ही त्यौहार

त्यौहार ही त्यौहार

आदित्य अपने से चार साल छोटी बहन श्वेता को हिंदी में निबन्ध याद करा रहा था। विषय था ‘भारत के…

Read More →
सत्संग

सत्संग

शहर का व्यस्त इलाका, उसमें स्थित है एक मंदिर, जिसमें आम तौर पर भीड़ नहीं रहती थी, परंतु आजकल बहुत…

Read More →
कार्टून

कार्टून

टी वी मन्नू को खूब है भाता कार्टून देखकर मन बहलाता हरदम कार्टून चैनल टीवी पर हाथों में चिप्स और…

Read More →
ऐसा भी होता है

ऐसा भी होता है

“आज क्या लिखा मॉम?” आख्या स्कूल बैग एक ओर रखते हुए बोली। “अच्छा, क्या रोज़ नयी कहानी लिखी जाती है…

Read More →
मेरी प्यारी गुड़िया

मेरी प्यारी गुड़िया

तीन साल की गोल-मटोल प्यारी सी बच्ची थी, चंदा। आज सुबह सुबह मम्मी पापा ने उसे एक बड़ी सी गुड़िया…

Read More →
दृष्टिकोण

दृष्टिकोण

आज श्रीमती विभा शर्मा के घर एक शानदार पार्टी का आयोजन किया गया था। उनका बेटा वैभव देश के प्रतिष्ठित…

Read More →
बड़े होकर क्या बनेंगे

बड़े होकर क्या बनेंगे

आज सारे बच्चे तन्मय के घर एकत्रित हुए थे। इस बार तन्मय का जन्मदिन रविवार को पड़ा, तो उसके मम्मी…

Read More →
नन्हे दोस्त

नन्हे दोस्त

ढाई साल की नन्ही चिंकी बड़ी प्यारी बच्ची थी। वह अपने ममा-पापा और दादी-बाबा के साथ बड़ी खुश रहती थी।…

Read More →
रुपया रुपया

रुपया रुपया

कक्षा आठ ए में जब सामान्य ज्ञान के पीरियड में आनन्द सर आये तो वे बोले कि आज वे कुछ…

Read More →
गलती

गलती

छह साल का आयुष बड़ा प्यारा, किन्तु बहुत शरारती बच्चा था। एक बार उसके पापा के ऑफिस के कुछ लोग…

Read More →
क्रांति बनाम आतंकवाद

क्रांति बनाम आतंकवाद

आज विद्यालय में वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। नवीं से बारहवीं कक्षा के बच्चे इसमें भाग लेने वाले…

Read More →
खाने की बरबादी

खाने की बरबादी

शशांक की मम्मी ने देखा कि डस्टबिन में आधा पराँठा पड़ा हुआ है। वह समझ गयीं कि यह शशांक का…

Read More →
ईश्वर एक है

ईश्वर एक है

नन्ही सिया होमवर्क कर रही थी। होमवर्क में वह बोल-बोल कर सुलेख लिख रही थी, "ईश्वर एक है।" पाँचवी कक्षा…

Read More →
भंडारा

भंडारा

घंटाघर का यह इलाका शहर के बीच होने पर भी थोड़ा कम व्यस्त इलाकों में गिना जाता था। पर आज…

Read More →
उत्कृष्ट दान

उत्कृष्ट दान

सुधा देवी की उम्र के साथ-साथ उनकी परेशानियाँ भी बढ़ती जा रही थीं। यूँ तो वे सिर्फ पैसे से ही…

Read More →
मासूम सी बात

मासूम सी बात

पीहू चार साल की छोटी सी बच्ची थी। वह अपने मम्मी पापा की बड़ी लाडली थी। पीहू के पापा का…

Read More →
सीखें वर्णमाला

सीखें वर्णमाला

अ आ इ ई              बोले मिक्की उ ऊ ए ऐ        …

Read More →
कितना कूल लगता है

कितना कूल लगता है

आज आदित्य बहुत खुश था। आज वह अपने स्कूल में दौड़ प्रतियोगिता में प्रथम आया। इनाम का कप लेकर घर आया,…

Read More →
दादी माँ का बचपन (भाग-2)

दादी माँ का बचपन (भाग-2)

दादी माँ सम्पदा को अपने बचपन की कहानी सुना रहीं थीं, जब वे बचपन में अपनी नानी के घर जातीं…

Read More →
दादी माँ का बचपन (भाग-१)

दादी माँ का बचपन (भाग-१)

दोपहर का समय था। सम्पदा टीवी देख रही थी। तभी बहुत जोर से आँधी आई। मम्मी ने लिविंग रूम की…

Read More →
मैं बड़ी हो गई हूँ – २

मैं बड़ी हो गई हूँ – २

अब तक आपने पढ़ा – बुआ ने मायके आने पर देखा कि उसकी भतीजी संजना के एक लड़के से खास…

Read More →
अन्विका

अन्विका

अन्विका स्कूल से आई तो उसने देखा कि आज फिर बर्तन माँजने वाली आंटी अपने बेटे सोनू को साथ लेकर…

Read More →
स्कूल

स्कूल

स्कूल है मुझको खूब ही भाता मेरे दोस्तों से मिलवाता बैग, किताबें, रंग और पेन्सिल टिफिन का खाना खाते हिलमिल…

Read More →
मैं बड़ी हो गई हूँ – १

मैं बड़ी हो गई हूँ – १

क्या हो गया है इस लड़की को, मैं सोचने लगी। यकीन नहीं होता कि यह वही संजना है जो मेरे…

Read More →
म्याऊँ

म्याऊँ

एक बार आधी रात में मेरी नींद खुल गयी, क्योंकि एक बिल्ली मेरे पलंग के पास म्याऊँ-म्याऊँ कर रही थी।…

Read More →
समृद्ध भारत

समृद्ध भारत

आज जाने कैसे रेनू मैम को कक्षा में आने में देर हो गयी। कक्षा छह उनकी पसंदीदा कक्षा थी, क्योंकि…

Read More →
भूल सुधार

भूल सुधार

आज अमन बेहद खुश था क्योंकि आज पापा ने उसकी फ़रमाईश पूरी कर दी थी। पापा उसके लिए एक नन्हा…

Read More →
मोबाइल फ़ोन

मोबाइल फ़ोन

नन्हा दीपू रूठ गया है अपनी जिद पर अड़ गया है कहते हैं सब हमको प्यारा कहना मानते नहीं हमारा…

Read More →
वरदान

वरदान

आज विद्यालय में ‘पुरस्कार-वितरण समारोह’ था। चारों ओर बड़ी चहल-पहल थी। कुछ दिन पहले एक निबंध प्रतियोगिता हुई थी, जिसमें…

Read More →
साँप सीढ़ी

साँप सीढ़ी

जो है सीधी राह पकड़ता, एक दिन है मंजिल को पाता। लंबी कूद लगाने वाला, अक्सर है मुँह की खाता।…

Read More →
गुड़िया रानी

गुड़िया रानी

पल भर गुड़िया बैठ न पाये कागज़ की नाव तैरा इतराये दूध पीने में नखरे दिखाए पकौड़े लेकिन फटाफट खाये…

Read More →
चोरी

चोरी

नन्ही रिया को अब स्कूल जाते हुए एक हफ्ता हो गया था। अब स्कूल में उसका मन लगने लगा था।…

Read More →
बिस्किट का पैकेट

बिस्किट का पैकेट

आज चीनू बहुत खुश था। उसकी मम्मी उसे एक छोटा बच्चा  दिखाने लायी थीं। मम्मी की एक दोस्त अस्पताल में…

Read More →
गुब्बारे

गुब्बारे

लाल गुलाबी नीले पीले गुब्बारे हैं बड़े सजीले ये हमको हैं इतने भाये लिए बिना रहा न जाये दूर-दूर तक…

Read More →
मेरा भैया

मेरा भैया

भैया मेरा बड़ा सजीला, लगता बिल्कुल भोला भाला। उसकी बात न मानी जाए, पैर पटककर रोता जाए। भैया ने जब…

Read More →
Loading...