पशु और हम

पशु और हम

पशु और हम एक साथ रह सकते हैं। रेंजर श्री रणवीर सिंह राव बच्चों को बताते हैं कि यह कैसे…

Read More →
काकी की बदलती दुनिया

काकी की बदलती दुनिया

मेरी पड़ोसन काकी से एक दिन बात करके उनकी बदलती दुनिया और संघर्ष के बार में जाना। आज काकी का…

Read More →
शादी का इंतजाम

शादी का इंतजाम

शादी का इंतज़ाम परिवार में किसी एक का नहीं होता। इसमें सभी हाथ बंटाते हैं और खुशी में शामिल होते…

Read More →
रामोजी (फिल्म सिटी)

रामोजी (फिल्म सिटी)

क्या आपने रामोजी फिल्म सिटि देखी है? अगर नहीं, तो आइये चलते हैं उसकी सैर पर।  First published in October…

Read More →
पहला सफर

पहला सफर

रमन ने रेल में कभी सफर नहीं किया था। उसे नहीं पता था कि उसका पहला सफर किसी के भले…

Read More →
पशुपति नाथ

पशुपति नाथ

आज कक्षा के छात्र उत्सुकता से पशुपति नाथ मंदिर के बारे में जानना चाहते थे।  First published in June 2017 आज…

Read More →
धैर्य से चमत्कार

धैर्य से चमत्कार

थायलैंड की फूटबाल टीम के साथ हुई घटना ने सिखाया कि धैर्य से चमत्कार हो सकता है। “भाई! ओ भाई!…

Read More →
स्वर्ण नगरी

स्वर्ण नगरी

स्वर्ण नागरी कैसे बनती है? ईंट-पत्थरों से या लोगों से? “ज्ञानेंद्र! कल हम लोग स्वर्ण नगरी के दर्शन करने चलेंगे”…

Read More →
बुजुर्गों का सुख सदन

बुजुर्गों का सुख सदन

हमें अपने बुजुर्गों का सुख बनाए रखने के लिए उन्हें आदर और समय देना चाहिए। सुख और खुशी के दिन…

Read More →
आधुनिक सिंड्रेला

आधुनिक सिंड्रेला

आज की आधुनिक सिंड्रेला बुद्धिमान है। उसे सफल होने के लिए किसी राजकुमार की ज़रूरत नहीं। “आज तो तुम गजब…

Read More →
मेरी हार

मेरी हार

आप सोचेंगे कि मुझे मेरी हार से खुशी क्यूँ मिल रही है? जानने के लिए आगे पढ़िये। दोपहर से शाम…

Read More →
हैप्पी बर्थडे

हैप्पी बर्थडे

लेखक ने अपनी लगन से अपने पोते के लिए प्यानो पर  हैप्पी बर्थडे बजाना सीखा। बड़े लोगों को अक्सर यह…

Read More →
अरुण की बुद्धिमानी

अरुण की बुद्धिमानी

अरुण ने अपनी बुद्धिमानी से गाँव को बाढ़ से बचाया। यह कहानी मैरी मैप्स डॉज की किताब ‘हंस ब्रिंकर’ पर…

Read More →
दिव्य

दिव्य

स्कूल के बाद जब बच्चे कॉलेज में जाते हैं तो ये किसी चमत्कार से कम नहीं लगता। जैसे बहुत बड़े…

Read More →
दिव्यांग की उड़ान

दिव्यांग की उड़ान

दिव्यांग लोगों को ईश्वर ने कुछ अलग शक्ति दी है। यही उनको उड़ने की शक्ति देती है।  First published in…

Read More →
शरारत

शरारत

रवि ने अपनी विनम्रता से उसपर हुई शरारत को वरदान में बदल दिया।  First published in December 2016 कंपाउंड में…

Read More →
जादूई जूते – १०

जादूई जूते – १०

वेंकू, रुहिन, तनुष और आशीष ने जाना की जादुई जूते उनकी अपनी शक्ति का प्रतीक थे। प्रात: काल के अखबार…

Read More →
न्याय का फैसला

न्याय का फैसला

एक राजा ने न्याय का फैसला लेकर अपने राज्य में खुशहाली फैलाई। अवंतिका नाम की नगरी में एक राजा राज्य…

Read More →
श्रवण कुमार सा…

श्रवण कुमार सा…

क्या आजकल बच्चे श्रवण कुमार से होते हैं? अगर नहीं, तो उन्हें कैसे आदर और बड़ों की सेवा करना सिखाया…

Read More →
आत्म सुरक्षा कवच

आत्म सुरक्षा कवच

लीना और उसकी माँ ने आत्म सुरक्षा के बारे में चर्चा की। जब से लीना स्कूल से आई, माँ ने…

Read More →
साहसी राजकुमार

साहसी राजकुमार

साहसी राजकुमार ने दुष्ट दैत्य को हराया और सोनपरी का दिल जीता। परी लोक की रानी बहुत ही चिंतित रहा…

Read More →
जादुई जूते – ९

जादुई जूते – ९

वेंकू, रुहिन, तनुष और आशीष ने अपने जादुई जूते से एक नन्ही बच्ची को अपने घर वापस पहुंचाया। मिस्टर लाल…

Read More →
जादुई जूते (मिशन ८)

जादुई जूते (मिशन ८)

जादुई जूते के अगले आग में पढ़िये कि कैसे बच्चों ने कश्मीर में आतंकवादियों को चकमा दिया। आज टी वी…

Read More →
कल और आज का बचपन

कल और आज का बचपन

दादी माँ ने वैकुण्ठ को अपने बचपन के किस्से सुनाये, जो आज के बचपन से बहुत अलग थे। “दादी माँ…

Read More →
हास्य किस्सा – जब मैंने दरवाजा खोला

हास्य किस्सा – जब मैंने दरवाजा खोला

क्या आप एक हास्य किस्सा सुनेंगे? मेरी बेटियों ने मेरा मेकअप करने का सोचा। दिसंबर की गुनगुनी धूप थी। प्रातः…

Read More →
जादुई जूते – भाग १

जादुई जूते – भाग १

इस शृंखला के पहले भाग में पढ़िये कि वैंकू, तनुष, रुहिन, आशीष और जैनी को जादुई जूते कैसे मिले।  First…

Read More →
एक पहल ऐसी भी

एक पहल ऐसी भी

अध्यापिका रीता ने बच्चों को बटेश्वर में पहल एजूकेशनल ट्यूर पर ले जाने का कार्य क्रम बनाया था। “आज तो कक्षा…

Read More →
विस्मरणीय सत्य

विस्मरणीय सत्य

रेनू की माँ ने अंधविश्वासों को सत्य से दूर किया।  “माँ! माँ, जल्दी आओ, चांदनी मर गयी! माँ….”, रेनू की…

Read More →
आप और हम – पीढ़ियों का मिलना

आप और हम – पीढ़ियों का मिलना

कंचन की बेटी की शादी थी और उसने बच्चे और बड़े-बुजुर्ग भी बुलाये थे। शादी के बहाने तीनों पीढ़ियों का…

Read More →
एक जादुई शब्द – सौरी

एक जादुई शब्द – सौरी

संचित और ओमी गहरे दोस्त थे, जिनमे झगड़ा हो जाता है। उनमें से सौरी कौन कहेगा? संचित और ओमी अपनी…

Read More →
एक और एक ग्यारह

एक और एक ग्यारह

आपने वो कहावत तो सुनी होगी - एक और एक ग्यारह? पढ़िये उस कहावत पर आधारित एक कहानी।  एक गाँव…

Read More →
रहस्य का ज्ञान

रहस्य का ज्ञान

खचाखच भरे सभागार में जैसे ही वक्ता ने बोलना शुरू किया कि वहाँ शांति छा गई। बच्चे ध्यान से उन्हें…

Read More →
आँखों को उपहार

आँखों को उपहार

आज अचानक आँखों को अपनी परोपकारी प्रवृत्ति की याद आ गई और वे पहले तो उन्माद से भर गई कि…

Read More →
जादुई जूते (मिशन ७)

जादुई जूते (मिशन ७)

जब से टी वी पर लंदन की संसद पर आतंकी हमले की कोशिश की खबर आई तब से वैंकू और…

Read More →
घड़ी

घड़ी

First published in November 2016 edition. “घड़ी–घड़ी मेरा दिल धड़के...क्यों धड़के...” रेडियो पर लता जी की मधुर आवाज गूंज रही…

Read More →
सबसे अच्छे दिन

सबसे अच्छे दिन

First published in January 2017 edition एक नगर में एक सेठ रहता था। वह बहुत धनवान था। उनके पास किसी चीज…

Read More →
अमर रहें

अमर रहें

अस्पताल भी कैसी जगह है! दर्द, पीड़ा, बीमारी से जूझता व्यक्ति यहाँ का रुख करता है। अपार भीड़ और अपने…

Read More →
नयी दिशाएँ

नयी दिशाएँ

रिक्की जब गरमियों की छुट्टी के बाद स्कूल गया तो इतना तरोताजा और उत्साहित था कि किसी के बिना जगाए…

Read More →
भारत रत्न

भारत रत्न

अर्जुन ने सिर पर बंधा तौलिया कुर्सी पर पटका और बड़बड़ाते हुए जूते उतारने लगा। “का हुआ रहा भैया? इतने…

Read More →
शहीदी कुआं

शहीदी कुआं

“अरे! सुमित तुम कहाँ चले गए थे यार! मैं तो तुम्हारे बिना परेशान हो गया था”, अरुण ने सुमित को…

Read More →
वागह बौर्डर

वागह बौर्डर

“पापा मुझे बी एस एफ में जाने के लिए क्या करना होगा?” चिंटू ने नाश्ता करते हुए पापा के पास…

Read More →
जादुई जूते – मिशन ४

जादुई जूते – मिशन ४

सावन का महीना प्रारम्भ होते ही चारों ओर बम–भोले का प्रभाव दृष्टिगोचर होने लगता है। कांवड़ियों को उठाने वालों का…

Read More →
जादुई जूते – मिशन ५

जादुई जूते – मिशन ५

रतनपुर की हवेली आजकल चर्चा का विषय बनी हुई है। जब से इसके मालिक राजा रतनसेन सपरिवार विदेश गए थे।…

Read More →
सबका साथी

सबका साथी

रोहित बेहद गंभीर छत्र था। उसका सारा समय लिखने–पढ़ने में बीतता था। कंप्यूटर और वीडियो गेम बहुत पसंद थे। वह…

Read More →
जादूई जूते – मिशन ४

जादूई जूते – मिशन ४

सीमाओं पर वायरलैस के माध्यम से की गई रिकॉर्डिंग से अब यह स्पष्ट हो चुका था, दुश्मन हमारे विज्ञान रिसर्च…

Read More →
कर्तव्यनिष्ठता

कर्तव्यनिष्ठता

ये बात गर्मियों की छुट्टियों की है। आकाश अपने स्कूल से दिल्ली घूमने गया था। उसके घनिष्ठ मित्र श्याम, हरीश…

Read More →
ख़जाना – पौधों का रहस्य

ख़जाना – पौधों का रहस्य

नैनीताल के पास एक बहुत ही सुरम्य स्थान है, कैंची। पहाड़ों के सुंदर वातावरण से पूरित ये स्थान बहुत ही…

Read More →
बापू का बैग

बापू का बैग

सर ने सुधीर को आज फिर डांटा कि यदि वह कल से बैग में किताबें रख कर नहीं लाया तो…

Read More →
Treasure – The Secret Of Plants

Treasure – the secret of plants

There is a picturesque location near Nainital, called Kainchi. The location is very idyllic, complemented by the beautiful surroundings of…

Read More →
जादुई जूते (मिशन ३)

जादुई जूते (मिशन ३)

वैंकू को चित्तौड़ की भूमि हमेशा आकर्षित करती थी। कभी राणा प्रताप के शौर्य और वीरता के किस्से, तो कभी…

Read More →
यज्ञसेन

यज्ञसेन

सुंदर गढ़ का राजा वीरसेन बहुत दयालु और न्याय प्रिय था। उसकी तीन रानियाँ थीं - चंद्र प्रभा, कांता और…

Read More →
बेटी

बेटी

कमरे से निरंतर कराहने की आवाज़ें आ रही थी। धीरे–धीरे उनकी तीव्रता बढ़ती जा रही थी। कराहटों का असर रामदेवी…

Read More →
इंतजार का सबक

इंतजार का सबक

मीरा अपने बड़े भैया राजेश को बहुत प्यार करती थी और उनका कहना भी मानती थी। लेकिन उसे राजेश भैया…

Read More →
मेला सूरज कुंड

मेला सूरज कुंड

हमारा देश भारत गावों का देश है। यहाँ प्रतिदिन कोई न कोई उत्सव, त्योहार होता है। प्राचीन समय में त्योहारों…

Read More →
जादुई जूते – मिशन २

जादुई जूते – मिशन २

आए दिन आतंकवादियों के द्वारा निर्दोष लोगों की हत्या से सारा भारतवर्ष परेशान था। खोज बीन से यही जानकारी उभर…

Read More →
पढ़ाई

पढ़ाई

मिनी और मनु पापा के पास लेटे थे और उनसे कहानी सुनाने का आग्रह कर रहे थे। बच्चों को कहानी…

Read More →
Surajkund Crafts Mela

Surajkund crafts mela

India is a country with more villages than cities.  It is a place where every new day begins with some…

Read More →
वसंत पंचमी

वसंत पंचमी

हमारे देश में वसंत पंचमी का उत्सव बड़े ही हर्ष और उल्लास के साथ माघ मास (फरवरी) के शुक्ल पक्ष…

Read More →
सहारा

सहारा

मैना पति की मृत्यु के बाद बिल्कुल अकेली हो गई थी। काफी भाग–दौड़ के बाद उसे पति के ऑफिस में…

Read More →
Vasant Panchami

Vasant panchami

The festival of Vasant Panchami is celebrated in our country, with great joy and jubilation, on the fifth day of…

Read More →
चिराग

चिराग

पढ़ाते–पढ़ाते इतने साल हो गए फिर भी हर साल नए उत्साह और जोश से शुरू होता है। लोग अक्सर पूछते…

Read More →
चित्रकार

चित्रकार

मेहुल को पेंटिंग करने का बहुत शौक था। वह स्कूल से आता, गृह कार्य निपटता और रंग–तूलिका लेकर बैठ जाता।…

Read More →
सेंटाक्लाज

सेंटाक्लाज

“मम्मी आज मैम ने सेंटाक्लाज के बारे में बताया। आप जानते हो वह क्या होता है? वह सब बच्चों को…

Read More →
जादुई बोतल

जादुई बोतल

समुद्र के किनारे कुछ बच्चे खेल रहे थे। सुनहरी बालू धूप में चमक रही थी। बच्चे इधर–उधर बालू के घरोंदे…

Read More →
खिलौनेवाली

खिलौनेवाली

मुर्गे की लंबी बांग, चिड़ियों की चहचहाट, ठंडी हवा का झोंका, सभी को निद्रा से उठाने की कोशिश कर रहे…

Read More →
अन्न देव

अन्न देव

छोटी प्रीति खाना खाने में अक्सर नखरे दिखाया करती थी। दूध देखते ही उसका दिल मिचलाने लगता था, रोटी देखते…

Read More →
बापू

बापू

“हम सब के थे प्यारे बापू सारे जग से न्यारे बापू सदा सत्य बतलाते बापू सबको गले लगाते बापू” राष्ट्रपिता…

Read More →
छोटी बुआ

छोटी बुआ

आगंतुक ने बम्ब सा धमाका किया, “छोटी बुआ नहीं रहीं” “क्या...?” एक साथ कई स्वर गूँजे। माँ के हाथ की…

Read More →
Bapu

Bapu

“The man of honesty, The man of Greatness, He is the Mahatma, The father of our nation!” The whole country…

Read More →
ताई जी

ताई जी

“माँ ताई जी का पत्र आया है। वे कुछ दिनों के लिए यहाँ आ रही हैं”, पल्लव ने मंदिर में…

Read More →
अध्यापक दिवस

अध्यापक दिवस

प्रतिवर्ष पाँच सितंबर को अध्यापक दिवस मनाया जाता है। यह दिवस १९६२ से मनाया जाना प्रारम्भ हुआ क्योंकि यह दिन…

Read More →
अपने – पराए

अपने – पराए

नन्द लाल ने इस साल अपने छोटे भाई के दोनों बच्चों को अपने पास शहर बुला लिया था। बेटा सुरेश…

Read More →
Teacher’s Day

Teacher’s Day

Teacher's Day is celebrated annually on the 5th of September. It started from the year 1962 because it is the…

Read More →
Krishna Janmashtami

Krishna Janmashtami

The birth of Lord Krishna is celebrated every year on the eighth day of the Krishna Paksha (dark fortnight) of…

Read More →
कृष्ण जन्म अष्टमी

कृष्ण जन्म अष्टमी

भगवान कृष्ण का जन्म भद्रमास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को प्रति वर्ष मनाया जाता है। उनका जन्म मथुरा की…

Read More →
गुदड़ी के लाल

गुदड़ी के लाल

अंकित के घर के सामने एक कारख़ाना है। शाम को पाँच बजे तेज आवाज में सायरन बजता और देखते ही…

Read More →
मन चाहा उपहार

मन चाहा उपहार

पलक और नीलू दोनों बहुत अच्छी सहेलियाँ थीं। दोनों की रुचियाँ और आदतें एक समान थीं। दोनों खूब पढ़ती, हँसती,…

Read More →
कार्ड

कार्ड

वृद्धावस्था और मोतियाबिंद से धुँधलाई आँखों में जब निराशा उतर आई तो झिलमिलाते आँसुओं ने दृष्टि को और भी धुंधला…

Read More →
सफाई

सफाई

“कितना घर साफ है तेरा, तारा!”, मिसिज गुप्ता ने चारों ओर नजर दौड़ाते हुए कहा। “हाँ भई! आप तो जानती…

Read More →
जन्म दिन का उपहार

जन्म दिन का उपहार

“माँ आज मैं स्कूल नहीं जाऊंगा”, निरूपम ने कहा। “क्यों नहीं जाओगे?” सविता ने लंच बौक्स बैग में डालते हुए…

Read More →
खोटा सिक्का

खोटा सिक्का

मेरी भी क्या अजीब आदत है। जब भी कभी बौक्स खोलती हूँ तो नानी माँ का दिया बटुआ जरूर टटोल…

Read More →
दीपक बिन दीवाली

दीपक बिन दीवाली

कार्तिक मास की अमावस्या आज कुछ अधिक ही काली लग रही थी। यध्यपि सब उसे प्रकाशवान बनाने का प्रयत्न कर…

Read More →
परवरिश

परवरिश

रामदेव ने उस छोटे से टुकड़े को इस तरह भींच लिया था जैसे वह कागज न होकर उसका बेटा अरुण…

Read More →
अजेय शक्ति

अजेय शक्ति

एक बरगद का बहुत पुराना पेड़ था। उसकी शाखाओं पर अनेक पक्षियों ने अपने घोंसले बना रखे थे। बरगद के…

Read More →
Loading...