Boni The Monkey

Boni the monkey

Boni the monkey of Sundarban was extremely naughty. His pranks troubled everyone in the neighborhood. Many a times, his mischief…

Read More →
Rent

Rent

The summer season had just started. A pair of pigeons was looking for a place to stay in Kanak forest.…

Read More →
मच्छर पहलवान

मच्छर पहलवान

अगस्त महीने का अंतिम सप्ताह चल रहा था। बरसात करीब-करीब खत्म सी हो गयी थी। रात्रि का समय था। कक्षा…

Read More →
बोनी बंदर

बोनी बंदर

सुंदर वन का बोनी बंदर बेहद शरारती था। उसकी शरारत से आस-पास के लोग बहुत परेशान रहते थे। कई बार…

Read More →
किराया

किराया

अभी गर्मी के मौसम की शुरुआत ही हुई थी। एक कबूतर और कबूतरी का जोड़ा कनक-वन में अपना बसेरा डालने…

Read More →
संगत

संगत

चिराग पढ़ाई में लापरवाही दिखा रहा था। उसके दादाजी को समझ में आ गया कि यह उसकी संगत का असर…

Read More →
सीख

सीख

न कर कभी तू ऐसी शैतानी, कि किसी के लिए बन जाए वो परेशानी हर दम कर अपनी मनमानी, बन…

Read More →
कटी पतंग

कटी पतंग

First published in November 2016 edition. कक्षा चार में पढ़ने वाला, तक़रीबन ९ साल का सोनू, एक अच्छे घर से…

Read More →
जीवन चक्र (भाग-२)

जीवन चक्र (भाग-२)

पिछले अंक में आपने पढ़ा था – राजा साँगवान के साथ हुई अजीबो-गरीब घटना को बीते करीब बीस साल हो…

Read More →
जीवन चक्र – १

जीवन चक्र – १

एक छोटे से पहाड़ी राज्य 'साँग' का राजा साँगवान बाहर से देखने में जितना सुंदर और कोमल था, अंदर से…

Read More →
नशे के सौदागर (भाग-२)

नशे के सौदागर (भाग-२)

पिछले अंक में आप ने पढ़ा था कि शहर में नशे की बढ़ती घटनाओं की वजह से नारकोटिक्स विभाग बहुत…

Read More →
मुझे जाना है स्कूल

मुझे जाना है स्कूल

तीन साल का सोनू सुंदर, गोल-मटोल, सब का दिल बहलाता थे प्यारे उसके बोल एक दिन वो रूठ कर ज़मीन…

Read More →
नशे के सौदागर (भाग-१)

नशे के सौदागर (भाग-१)

देश के एक महत्वपूर्ण कस्बे के ख़ास चौराहे पर मेरा एक छोटा सा ढाबा था। यह कस्बा महत्वपूर्ण इसलिये था…

Read More →
दाँतों की दुनिया (भाग-२)

दाँतों की दुनिया (भाग-२)

अब तक आपने पढ़ा था कि दंतमूषक जी चुनमुन को दाँतो की अनोखी दुनिया के बारे में बता रहे थे…

Read More →
भला करो खूब फलो

भला करो खूब फलो

पुष्प वन में हजारों-हजार की संख्या में रंग-बिरंगे फूल अपनी मनोहारी छटा बिखरते हुए खिले रहते। उनकी खुशबू दूर-दूर तक…

Read More →
डेज़ी मैम

डेज़ी मैम

क्लास एक में पढ़ती अपनी प्यारी डेज़ी रानी, चार साल के छोटे भाई पर करती ख़ूब मनमानी भाई को बना…

Read More →
दाँतों की दुनिया (भाग – 1)

दाँतों की दुनिया (भाग – 1)

बेटे चुनमुन, चलो सोने से पहले दाँतों को अच्छी तरह से साफ कर-के कुल्ला कर लो, माँ ने कहा। "माँ,…

Read More →
संगत भाग – 2

संगत भाग – 2

अब तक आपने पढ़ा - शर्मा जी का पोता चिराग पढ़ाई लिखाई में बिलकुल मन नहीं लगा रहा था। उसके…

Read More →
राजेश की सूझ-बूझ की कहानी

राजेश की सूझ-बूझ की कहानी

जब राजेश को आतंकवादियों ने बंदी बना लिया, उसने अपनी होशियारी से अपने माता-पिता को खबर करी।  यह है उसके सूझ-बूझ की कहानी।…

Read More →
Loading...