मानवीय स्पर्श – २

मानवीय स्पर्श – २

जब मैं गिर रहा था तब के मेरे इन्सान के बर्ताव के बारें में जो भी अनुभव थे, वे धीरे…

Read More →
The Human Touch – II

The Human Touch – II

My experiences with the truth of human behaviour during the fall season were subsiding gradually and I had started looking…

Read More →
Slaying The Dragon (non-fiction)

Slaying the dragon (non-fiction)

The very mention of the word “Dragons” evokes both horror and comedy in one’s mind simultaneously with the image of…

Read More →
अजगर का वध

अजगर का वध

‘अजगर’ शब्द सुनते ही किसी के भी दिमाग में डर और साथ ही हास्य के भावों की उत्पत्ति होती है।…

Read More →
Parks And The Parkers

Parks and the parkers

The equation is  both  as simple and  as  complex as “who came first”- the parks or the parkers.  Whosoever did,…

Read More →
बाग़ बगीचों में सैर करने वाले लोग

बाग़ बगीचों में सैर करने वाले लोग

समीकरण जितना सरल है उतना ही जटिल भी है। जैसे कि “क्या पहले आया” – बाग़-बगीचे, या बाग़ों में सैर…

Read More →
मानवीय स्पर्श – भाग ३

मानवीय स्पर्श – भाग ३

एक पेड़ से सुनिए कि कैसे मानवीय स्पर्श ने उसे गिरने से बचाए रखा। मानवीय स्पर्श की कोमलता की सराहना…

Read More →
The Human Touch – III

The human touch – III

Ever wondered how a tree feels? The human touch is an environmental article written from the perspective of a jamun…

Read More →
आदिवासी

आदिवासी

मेरे जन्म से लेकर अब तक, ६० वर्षों से भी अधिक समय दिल्ली में रहते हुए, आदिवासियों की केवल एक…

Read More →
The Tribals

The tribals

Living, since my birth in Delhi more than 60 years ago, I have only a faint appreciation of what tribals…

Read More →
पौधों से मनुष्यों को जोड़कर पर्यावरण को सशक्त बनाना

पौधों से मनुष्यों को जोड़कर पर्यावरण को सशक्त बनाना

पर्यावरण को सशक्त बनाना हम सब का कर्तव्य है। हमें पौधों की देखभाल ठीक से करनी चाहिए, क्यूंकी वही हमें…

Read More →
Empowering Environment By Connecting People To Plants

Empowering environment by connecting people to plants

The author explains very passionately why it is important that each of us learns about the importance of connecting people…

Read More →
Go Green

Go green

This article will inspire you to go green, with various tips. Ever since life came into being, man has been…

Read More →
हरियाली की ओर

हरियाली की ओर

इस लेख से आप हरियाली की ओर बढ़ने के लिए प्रेरित होंगे! जब से जीवन का आरंभ हुआ है, तब…

Read More →
Nature’s Artefacts

Nature’s artefacts

Wandering in the city I was looking for something unique to write about and destiny took me to a neighbourhood…

Read More →
पृथ्वी दिवस

पृथ्वी दिवस

इस पृथ्वी दिवस पर सोचिए कि आप पर्यावरण में कितना बदलाव ला रहे हैं। “हम भूल गए हैं कि कैसे…

Read More →
प्रकृति की कलाकृतियां

प्रकृति की कलाकृतियां

प्रकृति की कलाकृतियां दर्शाते यह अनोखे पेड़ देखते ही बनते हैं। शहर में घूमते हुए, मैं लिखने के लिए कोई…

Read More →
Earth Day

Earth Day

On Earth day, think about our impact on the environment. “We have forgotten how to be good guests, how to…

Read More →
Glory To Gory – Spoken By An Old Tree

Glory to gory – spoken by an old tree

An old tree provide support to animals, despite it's age. However, humans do not care for them.  Ageing is common…

Read More →
उजड़ी बहारें – एक बूढ़े पेड़ की ज़बानी

उजड़ी बहारें – एक बूढ़े पेड़ की ज़बानी

बूढ़े पेड़ भी जीव-जंतुओं को सहारा प्रदान करते हैं। एक मनुष्य ही है, जो उनकी कद्र नहीं करता। इसके अतिरिक्त…

Read More →
Amaltas – A Native Of India

Amaltas – a native of India

First published in December 2016. (Botanical name - Cassia fistula) Amaltas trees in full bloom, casting a spell of the “Golden…

Read More →
अमलतास – भारत का देशज

अमलतास – भारत का देशज

First published in December 2016. बोटानिकल नाम - काशिया फिस्टुला अमलतास के पेड़ अत्यंत घने एवं पत्तेदार हैं, और रास्ते…

Read More →
Citizens Social Responsibility For Children

Citizens Social Responsibility for children

A non-fictional article that describes the efforts of a keen group of volunteers that works towards the upkeep of nature…

Read More →
बच्चों के लिए नागरिकों के सामाजिक उत्तरदायित्व

बच्चों के लिए नागरिकों के सामाजिक उत्तरदायित्व

एक शैक्षिक लेख जो स्वयंसेवकों के एक गहन समूह के प्रयासों का वर्णन करता है जो प्रकृति की देखभाल के…

Read More →
कहानी कहते पेड़

कहानी कहते पेड़

मानव चेहरों की तरह ही, पेड़ों में भी कुछ कहानियाँ दिखती हैं। ऐसा लगता है मानो वे समाज और लोगों…

Read More →
The Trees That Tell Tales

The trees that tell tales

Like humans, trees also have stories to tell us. In this article, the author has captured certain trees that tell…

Read More →
सेमल

सेमल

वर्ष के इस समय में दिल्ली के आसपास घूमने और रहने वाले लोगों ने इस ऊँचे और मजबूत सेमल के…

Read More →
Semal

Semal

Moving around Delhi this time of the year, one comes across Semal - a prominent and hardy tree also known…

Read More →
Who Painted Me Red Oxide

Who painted me Red Oxide

Standing proudly as team leader for more than fifteen years of my life at a vantage location in Sector 6,…

Read More →
किसने मुझे रेड ऑक्साइड पेंट किया

किसने मुझे रेड ऑक्साइड पेंट किया

अपने जीवन के पंद्रह वर्ष तक दल का नेतृत्व करते हुए आज मैं गर्व के साथ एक सम्मानित स्थान पर…

Read More →
The Lucky Trio

The lucky trio

Located on the central verge of a busy underpass at an important location in a busy metropolis we always wondered…

Read More →
भाग्यशाली तीन पेड़

भाग्यशाली तीन पेड़

अत्यंत व्यस्त इलाके के एक महत्वपूर्ण स्थान पर, एक व्यस्त उपमार्ग के बीचों बीच स्थित हम हमेशा सोचते रहे कि…

Read More →
Tree Numbering

Tree numbering

Like most of us, the trees also live in different colonies of any city in our country and have their…

Read More →
पेड़ों का अंकन

पेड़ों का अंकन

हमारे जैसे बहुत लोगों की तरह, पेड़ भी देश के विभिन्न नगरों की कॉलोनियों में रहते हैं और उनका भी…

Read More →
The Gardener (maali)

The gardener (maali)

Yes, I am proud to be young and into our professionally family tradition of Mali.  No, I did not say…

Read More →
माली

माली

हाँ, मैं गौरवान्वित हूँ कि मैं युवा हूँ और अपने पारंपरिक पारिवारिक व्यवसाय में हूँ। मैं यह नहीं कह रहा…

Read More →
वृक्ष बोले

वृक्ष बोले

पेड़ उस समय से अस्तित्व में हैं जबसे मानव जाति का जन्म हुआ। हालांकि पेड़ अचल हैं, किन्तु वे मानव…

Read More →
Tree Speak

Tree speak

The trees have been in existence ever since mankind has travelled in time, though immovable in their own ways. They…

Read More →
Tree – The True Friend

Tree – the true friend

Trees have withstood the test of time ever since coming to being and have woven many a bond with generations…

Read More →
पेड़ – सच्चा मित्र

पेड़ – सच्चा मित्र

पेड़ अपने जन्म से ही समय की मार को झेलते आए हैं और अनेक पीढ़ियों की आवश्यकताओं, जैसे फल-फूल व…

Read More →
परवाह किसे है?

परवाह किसे है?

हम पेड़, अपनी संबन्धित श्रेणियों - छोटे, मँझले और बड़े की बढ़त को लेकर बहुत ही संवेदनशील हैं और सुंदरता…

Read More →
Who Cares…

Who cares…

We, the trees, are very sensitive about growth in our respective categories – small, medium, large - and are very…

Read More →
Tender Talks

Tender talks

At just nine months of standing unprotected on my own tender root under the sun compels me to think today…

Read More →
नाज़ुक बातें

नाज़ुक बातें

इस समय मैं सिर्फ नौ महीने की हूँ और धूप में बिना किसी बचाव के अपनी नाज़ुक जड़ों पर खड़े…

Read More →
The Barren Tree

The barren tree

Life for me has been a leafless journey for more than ten years.  It is not that I did not…

Read More →
सूखा पेड़

सूखा पेड़

मेरे लिए जीवन दस वर्ष से भी ज़्यादा पत्ते रहित रहा है। ऐसा नहीं है कि पत्ते मुझपर कभी रहे…

Read More →
पिलखन – फिरकस वाइरेन्स

पिलखन – फिरकस वाइरेन्स

प्रकृति का निरीक्षण अत्यंत रुचिर होता है क्योंकि वह हमें प्राकृतिक तरीकों से बहुत सारी चीज़ें सिखा देता है। नगर…

Read More →
Pilkhan – Ficus Virens

Pilkhan – Ficus Virens

Observing nature is very interesting as it teaches a great many things in the natural way.  Travelling around the city…

Read More →
Child Labour

Child labour

A girl little more than me in age Comes to our house everyday She cleans utensils, mops the floor And…

Read More →
The Human Touch – I

The human touch – I

Standing tall at 25 feet with a well-grown lush green canopy just at eight years I took pride amongst my…

Read More →
मानवीय स्पर्श

मानवीय स्पर्श

मैं पिछले ८ सालों से अपनी २५ फुट ऊँची हरीभरी छत्रछाया की छाँव दुनिया को देते हुये, मैं जामुन के…

Read More →
Thus Spoke The Sheesham Tree

Thus spoke the Sheesham tree

The author has an interesting conversation with a Sheesham tree, who talks about man's behaviour towards him. Couched comfortably on a…

Read More →
जब शीशम का पेड़ बोला

जब शीशम का पेड़ बोला

एक पेड़ के तने पर आराम से बैठा जब मैं "दिल्ली के पेड़" नामक किताब पढ़ रहा था, मुझे एक…

Read More →
Loading...