सफलता का शिखर

सफलता का शिखर

दिव्या को आज पी.एच.डी की उपाधि मिलने वाली है। मंच पर बैठी उसे दासगुप्ता मैम का निस्वार्थ मार्गदर्शन याद आ रहा था।  विश्वविद्यालय…

Read More →
पर हित सरिस धरम नहीं कोय

पर हित सरिस धरम नहीं कोय

आज छुट्टी का दिन है। मालिनी सुभद्रा से नजरें चुराते इधर उधर छिपती फिर रही है। सुभद्रा आज जरूर उसे…

Read More →
दधीचि का देहदान

दधीचि का देहदान

दधीचि का देहदान आज क्या मायने रखता है? पढ़िये इस कहानी में।   शनिवार का दिन था। शौर्य अपने पापा…

Read More →
मुंगेरीलाल लाल रंग

मुंगेरीलाल लाल रंग

कबीर को मुंगेरीलाल की तरह हसीन सपने देखने का शौक था। वह बुद्धिमान था, पर आलसी भी। कबीर को दिवास्वप्न…

Read More →
मन उड़ चला विदेश पेरिस – २

मन उड़ चला विदेश पेरिस – २

हमारी विदेश पेरिस की यात्रा अभी भी जारी थी। हमनें अपनी धरोहर का ख्याल रखने के बारे में सीखा। मैंने…

Read More →
मन उड़ चला विदेश पेरिस – १

मन उड़ चला विदेश पेरिस – १

मैं और मेरा परिवार विदेश पेरिस जाते हैं। वहाँ हमने बहुत कुछ देखा और सीखा।  पापा अक्सर अन्तरराष्ट्रीय सेमिनार में…

Read More →
गुरुदक्षिणा

गुरुदक्षिणा

रमन को गुरुदक्षिणा पर एकाँकी लिखनी थी। उसने सोचा की एकलव्य की कहानी को छोड़कर, किसी दूसरी कहानी पर लिखा…

Read More →
रुद्र की लेह-लद्दाख यात्रा

रुद्र की लेह-लद्दाख यात्रा

रुद्र की लेह-लद्दाख यात्रा बहुत ही मनोरंजक रही। उसने वहाँ के बारे में बहुत कुछ जाना। रुद्र की जिद्द पर…

Read More →
जो होता है,  भले के लिए होता है

जो होता है, भले के लिए होता है

वैभव स्कूल से लौटा, तब उसका चेहरा तमतमाया हुआ था।  उसने किसी से कोई बातचीत नहीं की, सीधे अपने कमरे…

Read More →
शह और मात

शह और मात

कौशांबी के महामंत्री ने अपनी कूटनीति से उज्जयिनी को शह और मात दी। प्राचीन काल में वत्सदेश की राजधानी कौशांबी…

Read More →
सेल्फी का भूत

सेल्फी का भूत

कुछ छात्राओं के सेल्फी के भूत से कक्षा की पिकनिक बीच में ही रद्द कर दी जाती है। कक्षा में…

Read More →
अक्ल बड़ी या भैंस – २

अक्ल बड़ी या भैंस – २

रोहन को ‘अक्ल बड़ी या भैंस’ पर एक कहानी लिखनी थी। उसकी मम्मी शारदा ने उसकी मदद की। रोहन शारदा…

Read More →
सुखद यात्रा – १

सुखद यात्रा – १

रेवान्त और राकेश के मम्मी-पापा उन्हें एक सुखद यात्रा पर मेरठ, हरिद्वार और ऋषिकेश ले कर गए।  First published in December…

Read More →
अक्ल बड़ी या भैंस – १

अक्ल बड़ी या भैंस – १

रोहन अपनी माँ को ‘अक्ल बड़ी या भैंस’ से हुए स्कूल के विवाद के बारे में बताता है। उस विवाद…

Read More →
प्रोजेक्ट वर्क

प्रोजेक्ट वर्क

बच्चों को छुट्टियों में प्रोजेक्ट वर्क मिला। कुछ बच्चें आलस के मारे उसे कर नहीं पाये।  गर्मियों की छुट्टियाँ होने…

Read More →
सुखद यात्रा – २

सुखद यात्रा – २

पिछले अंक में आपने पढ़ा कि रेवान्त का परिवार एक सुखद यात्रा पर मेरठ होते हुए हरिद्वार - ऋषिकेश जा…

Read More →
इंद्रधनुष

इंद्रधनुष

चन्दन नगर का राजा चंद्रवर्मन् बड़ा ही लोकप्रिय राजा था। उसके राज्य में प्रजा बड़ी सुखी थी। चारों तरफ शान्ति…

Read More →
मेरी प्रेरणा – मेरी दीदी

मेरी प्रेरणा – मेरी दीदी

बधाइयाँ स्वीकार करते-करते अभयदेव का गला सूख गया। जिलाधिकारी का कार्यभार ग्रहण करने आफिस पहुँचे, तो वहाँ लोगों की भीड़…

Read More →
अपहरण – २

अपहरण – २

पिछले अंक में आपने पढ़ा कि शम्भवी परीक्षा के बाद घर नहीं लौटी। अब आगे पढ़िये। धीरे-धीरे शाम हो गई।…

Read More →
अपहरण – १

अपहरण – १

रतनपुर गाँव शाहाबाद से लगभग आठ किलोमीटर दूर है। गांव में एक प्राइमरी स्कूल है, जो राम भरोसे चलता है।…

Read More →
असल जिंदगी का हीरो

असल जिंदगी का हीरो

छुट्टी का दिन था, सोसाइटी से सटे पार्क मे सब धूप का आनंद ले रहे थे। वयोवृद्ध कर्नल संग्राम सिंह…

Read More →
जादू की छड़ी

जादू की छड़ी

सुबह-सुबह सचिन के कमरे से आते शोरशराबे से यात्रा से थकी हुई यशोदा की नींद खुल गई। कमरे में जाकर…

Read More →
बिना भित्ति के चित्र बनाना

बिना भित्ति के चित्र बनाना

संध्या का समय था। सभी लड़के-लड़कियाँ खेलने के लिए घर से निकल पड़े थे,  लेकिन दृष्टि नहीं निकली। उसकी सहेलियाँ…

Read More →
नई सुबह

नई सुबह

वार्षिक परीक्षा समाप्त होते ही शौर्य अपने दादाजी के साथ गाँव रवाना हुआ। गर्मी के बावजूद उसका तन - मन…

Read More →
Loading...