पिताजी का विश्वास

पिताजी का विश्वास

रघु पाँचवी कक्षा का छात्र था। वह पढ़ने में तो अच्छा था ही साथ ही साथ खेल कूद में भी…

Read More →
परिवर्तन

परिवर्तन

मीना जबसे अपने विद्यालय में कप्तान बनी थी तबसे उसे लगता था कि उसकी सहेलियाँ उससे कुछ ठीक से बात-…

Read More →
प्रतिकूलता से जूझना

प्रतिकूलता से जूझना

केशव ने अपनी प्रतिकूलता से जूझ कर नए दोस्त बनाए। राघव और केशव बहुत ही अच्छे मित्र थे। वह साथ…

Read More →
वफ़ादार भीका काका

वफ़ादार भीका काका

भीकराम हमारे परिवार की कई सालों से सेवा करते थे। उन्होने एक बार फिर अपने वफादार होने का नमूना दिया।…

Read More →
सेना के महानायक

सेना के महानायक

रावी के पिता सेना के महानायक ही नहीं, देश के महानायक भी थे। रावी  बहुत खुश थी जब उसके पिताजी…

Read More →
पढ़ने का आत्मविश्वास

पढ़ने का आत्मविश्वास

कस्तूरबा मैम ने मिथिला में पढ़ने का आत्मविश्वास जगाया। एक समय की बात है, रावल नाम के शहर में, मिथिला…

Read More →
दर्जी चिड़िया, एक नन्ही कलाकार

दर्जी चिड़िया, एक नन्ही कलाकार

नवजोत ने अपनी छुट्टियों में दर्जी चिड़िया के बारे में सीखा। नवजोत की गर्मियों की छुट्टियाँ शुरू हो चुकी थीं।…

Read More →
कामयाबी की अभिलाषा

कामयाबी की अभिलाषा

बुलबुल ने सीखा कि कामयाबी की अभिलाषा के साथ-साथ उसे अपनी हार को स्वीकार करना भी आना चाहिए।  पिछले साल के…

Read More →
रेल यात्रा

रेल यात्रा

रिया की एक रेल यात्रा ने उसे जिंदगी से संतुष्ट रहना सिखाया।  First published in July 2017 रिया के ग्रीष्मकालीन…

Read More →
भ्रम तथा तथ्य

भ्रम तथा तथ्य

तन्वी घर से निकालने से पहले छींकी, इसलिए उसे लगा कि वह प्रतियोगिता हार गयी। उसकी माँ ने उसका भ्रम…

Read More →
नई सोच – हमारी बेटियाँ

नई सोच – हमारी बेटियाँ

हमारी बेटियाँ एक नए ज़माने में कदम रख रहीं है। रिंकि के दादा-दादी ने कुछ ऐसा ही सोचा।  किशोरदास जी…

Read More →
रहस्य

रहस्य

“बादाम कहाँ गए, मैंने यहीं पर तो भिगोकर रखे थे! देखो, यहाँ बादाम के छिलके पड़े है”। रागिनी के पूरे…

Read More →
खुशी का उपहार

खुशी का उपहार

कार्यक्रम में जाने के लिए तैयार होना था और तनीषा बहुत उत्सुक थी अपनी पसंदीदा गुलाबी फ्रॉक पहनने को। माँ…

Read More →
एक अनुपम भविष्य

एक अनुपम भविष्य

कबीर बारहवीं कक्षा में था। उसकी परीक्षाएँ भी ख़त्म होने को आ गयी थी। वह बड़ी दुविधा में था कि…

Read More →
चलो खेलें

चलो खेलें

बुआ अपने बेटे वरेण्य के साथ जब गर्मियों की छुट्टी में अमरीका से भारत आया तो अनीशा और उज्ज्वल को…

Read More →
समाधान

समाधान

अच्छे अंकों से उत्तीर्ण होने के बाद रोहित की छटवी कक्षा में उन्नति हो गई थी। वह और उसके साथी…

Read More →
धन्यवाद मैम

धन्यवाद मैम

मीनल और राहुल दो जुड़वाँ भाई बहन थे। दोनों में बेहद प्यार था परंतु वे लड़ते भी बहुत थे। मीनल…

Read More →
मेरा भारत महान

मेरा भारत महान

रूद्र हमेशा इसी बात पर अड़ा रहता था कि बड़ा होकर वह विदेश चला जाएगा और फिर वहीं बस जाएगा।…

Read More →
आभा की चिंता

आभा की चिंता

आभा को तसवीरें खींचने का बहुत ही शौक था। वह कहीं भी जाती अपना कैमरा निकालकर तसवीरें लेने लग जाती।…

Read More →
सीख

सीख

प्रिया घर में घुसते ही स्कूल बैग एक तरफ रखकर सोफे पर बैठ गई। उसकी आँखों के सामने वही घटना…

Read More →
Loading...