मेरी मैडम, मेरी माँ

मम्मी मुझको सुबह जगाती,

सबको गुड-मॉर्निंग करवाती,

दिनचर्या करने के बाद,

हल्का सा भोजन करवाती।

स्कूल में जाकर मैडम हमको,

नई-नई चीज़ें सिखलाती,

हिन्दी पढ़ाती, इंग्लिश पढ़ाती,

मैथेमैटिक्स में माहिर बनाती।

खूब पढ़ाती, खूब लिखाती,

डांस कराती, आर्ट सिखाती,

संग में हमको खेल सिखाती।

मम्मी और मैडम, दोनों मुझे प्यार करती,

दोनों मुझको बड़ा बनाने में जुट जाती।

Aditeya Goyal, Hindi poem, 8 to 10 years
Average rating of 5 from 1 vote

Leave a Reply

Loading...