Maria’s Mind

Maria’s mind

  • September 1, 2018

Maria is the topper in her class. However, when a new student joins the class she faces a battle of the mind. Our minds are very curious parts of our body. Malleable, permeable, absorbent; they’re like some beautifully complicated form of…

Read more
Inner Beauty

Inner beauty

  • September 1, 2018

Wanting to look beautiful, Reena searches on the internet and goes on a strict diet. When she falls seriously ill does she realise what is really meant by inner beauty. Reena sat sulkily at the dinner table. She was starving.…

Read more
कामयाबी की अभिलाषा

कामयाबी की अभिलाषा

  • September 1, 2018

बुलबुल ने सीखा कि कामयाबी की अभिलाषा के साथ-साथ उसे अपनी हार को स्वीकार करना भी आना चाहिए।  पिछले साल के खेल दिवस पर तो बुलबुल कुछ ख़ास कमाल नहीं कर पाई थी किन्तु इस बार उसने ठान ली थी कि…

Read more
मेरे जैसा कोई नहीं

मेरे जैसा कोई नहीं

  • September 1, 2018

कल से गर्मी की छुट्टियाँ होने वाली थीं। कनिका बहुत उत्साहित थी। उसने इन गर्मी की छुट्टियों में कुछ ख़ास करने की सोच रखी थी। वह जानती थी कि अब वह नाइन्थ क्लास में आ गयी है, इसलिए वह पढाई…

Read more
गलती का निवारण

गलती का निवारण

  • September 1, 2018

गलतियाँ सभी से होती हैं, चाहे वो बड़े हों या छोटे। पर गलती का निवारण करना जरूरी है।  जानकी मौसी सेवा निवृत्ति के बाद अपने गाँव के घर रहने गई। घर और बाग़ बगीचे की देख भाल के लिए उन्होंने…

Read more
What’s Troubling You?

What’s troubling you?

  • September 1, 2018

Ms. Nidhi Jha holds a masters degree in social work from Delhi University. She has over 12 years of experience working with children with development issues. She has extensive experience counselling adolescent children both in India and abroad. She has…

Read more

Want to read this? Sign in or register for free.

      Register for free

शैतान मोनू

  • September 1, 2018

पाँच वर्ष के मोनू की शैतानियाँ दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रहीं थीं। वह घर में दादी, बाबा, मम्मी, पापा सभी का लाडला था। पर आजकल उसे अपनी शैतानियों के कारण काफी डाँट पड़ने लगी थी। चिंता की बात तो यह…

Read more
पतंग

पतंग

  • September 1, 2018

लटक-झटक, मटक-मटक, चली चली रे चली, मैं उड़ चली, हवा के साथ-साथ मैं बह चली, कभी इधर तो कभी उधर, बस उड़ चली। ढील डोर की छोड़ो, आगे बढ़ते जाना है, ऊँचे-ऊँचे बादलों से आँख मिचौली करना है, नीले-नीले आसमान…

Read more
छोटी सी नन्ही, बड़ी सी उड़ान

छोटी सी नन्ही, बड़ी सी उड़ान

  • September 1, 2018

नीलवन कश्मीर की वादियों में स्थित एक घना जंगल था।  नीलवन में कई तरह के पेड़ पौधे, पक्षी और जानवर जाते थे। यह एक ऐसा जंगल था जहाँ सब प्राणी मिल जुलकर रहते थे। इस जंगल के सबसे बड़े सदस्य…

Read more
Never Tell A Lie

Never tell a lie

  • September 1, 2018

Sanjay has the habit of cooking up stories to get out of trouble. In this story, he learns why it is important to never tell a lie. “Sanjay, what happened to the chocolate cake? I just baked it and took it out…

Read more
Loading...