साफ़ दिल वाला सागर

साफ़ दिल वाला सागर

  • February 1, 2016

एक बच्चा था, छोटा सा। नन्हा सा, भोला-भाला। उसका नाम सागर था। और वो था भी एकदम सागर जैसा। सागर की तरह बिल्कुल साफ़ दिल का। सागर की तरह बड़े दिल वाला। खेलना उसे अच्छा लगता था। पर उससे भी…

Read more
The Leaf’s Destiny

The leaf’s destiny

  • February 1, 2016

  Come O strong ye autumn wind A yellowed wrinkled leaf did say Hold me in your strong embrace And from this world blow me away   Stay a while O wise old one For your time is yet to…

Read more
मन उदार है तो पूरी दुनियाँ अपनी है

मन उदार है तो पूरी दुनियाँ अपनी है

  • February 1, 2016

अमन (मुसलमान), गगन (हिन्दू) और एडन (ईसाई) के बीच गहरी दोस्ती थी। कोई भी रुकावट उनकी दोस्ती को डिगा नहीं सकी थी, चाहे वह धर्म की हो, चाहे खान-पान की, चाहे उनके माता-पिता की हो, चाहे अमीरी-गरीबी की। कक्षा में…

Read more

किशोरों की मानसिक स्थिति

  • February 1, 2016

  क्या आप को बिना किसी कारण के गुस्सा आता है, चिड़चिड़ाहट होती है और बिना वजह आप उदास हो जाते हैं? कई बार छोटे भाई या बहन पर चिल्लाने लगते हैं, दरवाजा ज़ोर से बंद करते हैं या अपनी…

Read more
Soham’s Adventures

Soham’s adventures

  • February 1, 2016

Mummy entered the room and saw Soham sitting glued to the TV. “Soham, will you go out and play?” Soham did not hear a word. Pokemon was at its climax. Mummy went out mumbling to herself, “When we were young,…

Read more
जब शीशम का पेड़ बोला

जब शीशम का पेड़ बोला

  • February 1, 2016

एक पेड़ के तने पर आराम से बैठा जब मैं "दिल्ली के पेड़" नामक किताब पढ़ रहा था, मुझे एक धीमी आवाज़ सुनाई दी। मैंने चारों ओर देखा लेकिन कुछ भी दिखाई नहीं दिया। आवाज़ थोड़ी बढ़ी तो मुझे महसूस…

Read more
आत्मविश्वास

आत्मविश्वास

  • February 1, 2016

कभी गिरने न देना, झुकने न देना, सम्मान के लिये हमेशा खड़े रहना। तूफ़ान से घबरा के रूक न जाना, डटे रहना तुम बस डटे रहना। अपने आत्म को हिलने न देना, विश्वास को डगमगाने न देना। चट्टान की तरह…

Read more
मुझे पश्चात्ताप नहीं होगा

मुझे पश्चात्ताप नहीं होगा

  • February 1, 2016

एक छोटे से कमरे में बैठकर निष्पाप कुछ लिखने में तल्लीन है। तभी एक वृद्ध ने भीतर आकर कहा, "बेटा, तेरी दादी को बुखार चढ़ा है, ज़रा चल तो।" लेखनी वहीं रखकर वह तुरन्त खड़ा हो गया और अपनी बस्ती…

Read more
मज़ा गणित का – मित्रों को आश्चर्यचकित कर देने वाला गणित का एक सरल जादू

मज़ा गणित का – मित्रों को आश्चर्यचकित कर देने वाला गणित का एक सरल जादू

  • February 1, 2016

मज़ा गणित का - पांच कार्ड का जादू तैयारी: पांच खाली कार्ड ले लें; उन पर १ से ५ तक के नंबर काले रंग से लिख दें, प्रत्येक कार्ड पर एक नंबर होना चाहिए। उन्हीं कार्ड के पीछे ६ से…

Read more
इला का ख्वाब – 1

इला का ख्वाब – 1

  • February 1, 2016

पैथान के निकट सौविग्राम नामक गाँव था, जो गोदावरी नदी के निकट था। वहाँ इला रहती थी। सूत के किसान होने के कारण, वहाँ के किसान संपन्न थे। यह समय कटाई का था। अतः सभी व्यस्त थे, क्योंकी कुछ समय बाद ही व्यापारी स्वर्ण-वस्तुओं…

Read more
Loading...