क्या आप एक हास्य किस्सा सुनेंगे? मेरी बेटियों ने मेरा मेकअप करने का सोचा। दिसंबर की गुनगुनी धूप थी। प्रातः काल के कार्य निबटाते-निबटाते तीन बज गए थे। क्रिसमस की बच्चों की छुट्टी थी। लंच का समय भी खिसकता जा…

Want to read this? Sign in or subscribe.

      Subscribe

हास्य किस्सा – जब मैंने दरवाजा खोला
Average rating of 4.7 from 3 votes

Loading...