अभ्युदय अपने बग़ीचे में बैठ कर आलू का पराँठा खा रहे थे। खाते खाते ,एक टुकड़ा गिर गया। उसने देखा कि तेज़ी से एक चूहा, एक गिलहरी और एक चिड़िया आ गई। तीनो को वो टुकड़ा चाहिए था। चिड़िया बोली,…

Want to read this? Sign in or register for free.

      Register for free

हम सब एक हैं
Average rating of 5 from 2 votes

Loading...