Post Series: सिंहासन बत्तीसी

बच्चों, नीव मैगजीन के पिछले संस्करण में हमने पहली पुतली रत्नमंजिरी की कहानी पढ़ी थी। वह कहानी सुनने के बाद राजा भोज बिलकुल साबित न कर पाया था की वह खुद विक्रमादित्य की तरह उस अनोखे सिंहासन पर बैठने के…

Want to read this? Sign in or subscribe.

      Subscribe

सिंहासन बत्तीसी: दूसरी पुतली चित्रलेखा की कहानी
Rate this post

Loading...