Post Series: सिंहासन बत्तीसी

यद्यपि राजा भोज अब तक किसी पुतली को संतुष्ट नहीं कर सके थे परंतु चमत्कारी सिंहासन पर बैठने की लालसा उन्हें पुन: राजदरबार में खींच लाई। बारहवें दिन, राजा भोज ने जैसे ही सिंहासन की ओर कदम बढ़ाया, पुतली इंदुमती…

Want to read this? Sign in or subscribe.

      Subscribe

सिंहासन बत्तीसी – कहानी पुतली इंदुमती की
Rate this post

Loading...