दिव्या को आज पी.एच.डी की उपाधि मिलने वाली है। मंच पर बैठी उसे दासगुप्ता मैम का निस्वार्थ मार्गदर्शन याद आ रहा था।  विश्वविद्यालय का दीक्षान्त समारोह है। विशालकाय सभागार ठसाठस भरा हुआ है। डिग्री पाने वाले सभी छात्र-छात्रों के चेहरों पर प्रसन्नता एवं…

Want to read this? Sign in or subscribe.

      Subscribe

सफलता का शिखर
Average rating of 4 from 2 votes

Loading...