प्रकाश ने अपने आप को सच्चाई से पहचाना और बदलना चाहा।  प्रकाश का पढ़ाई में बिल्कुल मन नहीं लगता था। खेल-कूद में भी वह सबसे हार जाता था। घर पर माता-पिता से बहुत डाँट खाता था। उसका बड़ा भाई भी…

Want to read this? Sign in or register for free.

      Register for free

सच्चाई की ताकत
Average rating of 4 from 21 votes

Loading...