Post Series: संगत

चिराग पढ़ाई में लापरवाही दिखा रहा था। उसके दादाजी को समझ में आ गया कि यह उसकी संगत का असर है। गाज़ियाबाद के एक रिहायशी इलाके राजनगर में तीन घनिष्ठ मित्र रहते थे। आस-पास के लोग उन्हें शर्मा जी, वर्मा…

Want to read this? Sign in or register for free.

      Register for free

संगत
Average rating of 5 from 2 votes

Loading...