विजय दिवस को मेरा प्रणाम, आपके सामने लाया हूँ पैग़ाम, कहना तो बहुत कुछ चाहता हूँ, पर वीरों की यादों में खो जाता हूँ, आँसू आ जाते है उनकी शहादत में, अपनी जान पर खेलकर, पड़ोसियों की रक्षा की हरदम,…

Want to read this? Sign in or subscribe.

      Subscribe

विजय दिवस
Rate this post

Loading...