शशांक और सिद्धार्थ ने पैर छूने की वास्तविक संस्कृति बताई। शशांक और सिद्धार्थ जुड़वा भाई लगभग ७ वर्ष के थे। दोनों फुटबॉल ले कर खेलने निकल रहे थे। माँ ने कहा, “बेटा, अभी रुक जाओ। गांव से ताऊजी आ रहे…

Want to read this? Sign in or register for free.

      Register for free

वास्तविक संस्कृति
Rate this post

Loading...