ईश्वर ने धरती का निर्माण आरम्भ किया। धरती के अंग, पहाड़, नदियाँ, समुद्र आदि बनाए। सूर्य, चंद्र, तारे और साथ ही दिन-रात, भांति-भांति के मौसम, उनके बदलते मिज़ाज़ों के साथ हल्की उत्तेजना और विविधताओं को अंजाम दिया। छोटे-बड़े, जीव-जानवरों का…

Want to read this? Sign in or register for free.

      Register for free

लिंग भेद, विचार विमर्श
Average rating of 5 from 2 votes

Loading...