ये रंग न होते तो दुनिया कितनी बेरंगी हो जाती, न होते सपने सतरंगी नींद काली सफेद रह जाती, सुन्दर पंखों वाली तितली यह रंग-बिरंगी दुनिया कैसे रंगों पर इठलाती, बिन इन्द्रधनुष बरसात की सुंदरता अधूरी रह जाती, यह रंग-बिरंगी…

Want to read this? Sign in or register for free.

      Register for free

रंग न होते तो
Rate this post

Loading...