Post Series: मेरी ख़ुशी

अभी तक आपने जो पढ़ा उस पर हल्की सी नज़र डाल लेते हैं। ख़ुशी प्रकृति की गोद में पली थी, हमेशा मुस्कुराते-खिलखिलाते रहना ही उसका स्वभाव था। लेकिन जब उसका निकाह हो गया तो वह बहुत दुखी हो गयी, वह…

Want to read this? Sign in or subscribe.

      Subscribe

मेरी ख़ुशी – २
Rate this post

Loading...