मेरा भैया

भैया मेरा बड़ा सजीला,

लगता बिल्कुल भोला भाला।

उसकी बात न मानी जाए,

पैर पटककर रोता जाए।

भैया ने जब मांगा केला,

माँ ने तब एक केला छीला।

भैया गए रूठ फटाफट,

नया केला लाओ खटाखट।

लाये जब एक नया केला,

भैया ने उसे खुद ही छीला।

चेहरे पर जो हँसी आ गई,

बस, अदा माँ को भा गई।

इस लेखक की और रचनाएँ पढ़िये 

Music by: snowflake / CC BY 3.0
मेरा भैया
Rate this post

Leave a Reply

Loading...