केशव ने अपनी प्रतिकूलता से जूझ कर नए दोस्त बनाए। राघव और केशव बहुत ही अच्छे मित्र थे। वह साथ ही पले-बढ़े। दोनों का घर भी अधिक दूर न होने के कारण दोनों अपने लगभग सारे काम संग–संग ही करते।…

Want to read this? Sign in or register for free.

      Register for free

प्रतिकूलता से जूझना
Average rating of 5 from 2 votes

Loading...