एक विद्यालय था। पूरे शहर में इस विद्यालय का बहुत नाम था। सभी माता-पिता अपने बच्चों को इस विद्यालय में भर्ती कराने की इच्छा रखते थे। शेखर के माता-पिता भी उसे इस विद्यालय में भर्ती कराने के लिए लेकर गए।…

Want to read this? Sign in or register for free.

      Register for free

प्रणाम
Average rating of 5 from 1 vote

Loading...