लटक-झटक, मटक-मटक, चली चली रे चली, मैं उड़ चली, हवा के साथ-साथ मैं बह चली, कभी इधर तो कभी उधर, बस उड़ चली। ढील डोर की छोड़ो, आगे बढ़ते जाना है, ऊँचे-ऊँचे बादलों से आँख मिचौली करना है, नीले-नीले आसमान…

Want to read this? Sign in or register for free.

      Register for free

पतंग
Average rating of 5 from 1 vote

Loading...