माँ विद्यालय की डायरी देख रही थी। उसमें ‘गांधी जयन्ती’ के अवसर पर होने वाले कार्यक्रम की सूचना थी। दो श्रेणियाँ थी। एक – जिसमें बच्चों को गांधी जी का रूप धारण कर आना था। दूसरा – जिसमे माँ से…

Want to read this? Sign in or register for free.

      Register for free

नन्हा ज्ञानी
Rate this post

Loading...