Post Series: दाँतों की दुनिया

बेटे चुनमुन, चलो सोने से पहले दाँतों को अच्छी तरह से साफ कर-के कुल्ला कर लो, माँ ने कहा। “माँ, छोड़ो ना, मुझे बड़ी तेज नींद आ रही है”, कहते हुए चुनमुन ने अपनी आँखें बन्द कर लीं और सोने…

Want to read this? Sign in or register for free.

      Register for free

दाँतों की दुनिया (भाग – 1)
Average rating of 4 from 3 votes

Loading...