Post Series: हिरण्मई और भानुप्रिया

हिरण्मई को सर में दर्द हो रहा था। सुबह से कक्षा में बैठे-बैठे उसका सर चकरा रहा था। बोर्ड पर लिखा हुआ अब उसे धुंधला नज़र आ रहा था। उसे बार-बार दुर्गा की किताब से काम उतारना पड़ रहा था।…

Want to read this? Sign in or register for free.

      Register for free

चश्मा
Average rating of 4 from 2 votes

Loading...