कभी गिरने न देना, झुकने न देना, सम्मान के लिये हमेशा खड़े रहना। तूफ़ान से घबरा के रूक न जाना, डटे रहना तुम बस डटे रहना। अपने आत्म को हिलने न देना, विश्वास को डगमगाने न देना। चट्टान की तरह…

Want to read this? Sign in or register for free.

      Register for free

आत्मविश्वास
Average rating of 5 from 1 vote

Loading...